4) सावधि जमा खाता- Fixed Deposit Account

Current Bank Account क्या है ? उन की सही जानकारी

चालू खाते के फायदे एवं नुकसान | Advantages and Disadvantages of Current Bank Account.

Current Bank Account की आवश्यकता आम तौर पर आम लोगों को न होकर केवल बिज़नेस करने वाले लोगों को होती है | कहने का अभिप्राय यह है की किसी भी व्यक्ति या इकाई द्वारा बैंक में चालू खाता उसकी बिज़नेस की आवश्यकता को ध्यान में रखकर खोला जाता है | आम तौर पर Current Bank Account कंपनियों, फर्मों, सार्वजनिक इकाइयों, ऐसे बिजनेसमैन जिन्हें दिन करंट अकाउंट क्या होता है में कई बार खाते से लेन देन की आवश्यकता होती है के बीच काफी प्रसिद्ध है |

चालू खाते की खूबी यह होती है की इसमें एक दिन में कितनी बार भी लेन देन किये जा सकते हैं यही कारण है की Current Bank करंट अकाउंट क्या होता है Account में जमा धनराशि पर कोई भी बैंक या वित्तीय संस्थान किसी प्रकार का कोई ब्याज नहीं देता है | चालू खाताधारक अपने खाते में पैसे जमा, निकासी एवं अन्य लेन देन भी आसानी से कर सकता है इसलिए ऐसे खातों को डिमांड डिपाजिट अकाउंट भी कहा जाता है | जहाँ तक एक चालू खाता खोलने का सवाल है लगभग सभी प्रकार के निजी एवं सार्वजनिक व्यवसायिक बैंक में यह खोला जा सकता है |

चालू खाता होने के फायदे (Advantages of Current Bank Account):

एक चालू खाता अर्थात Current Bank Account होने के अनेकों फायदे हो सकते हैं लेकिन इनमें से कुछ फायदों की लिस्ट निम्नवत दी गई है |

  • चालू खाते बिज़नेस इकाइयों को बड़ी मात्रा में रसीदी एवं भुगतान की एक बड़ी मात्रा को व्यवस्थित रूप से सँभालने की इजाजत देते हैं |
  • ऐसे खातों में लगाये जाने वाले नकदी शुल्क के साथ नियमित तौर पर असीमित पैसे निकासी की अनुमति होती है |
  • बैंक की गृह शाखा जहाँ चालू खाता अर्थात Current Bank Account खोला गया हो में पैसे जमा कराने पर किसी प्रकार का कोई प्रतिबंध नहीं है | मतलब की गृह शाखा में उद्यमी कितने भी और कितनी बार भी पैसे जमा करा सकता है | लेकिन इसके अलावा उसी बैंक की अन्य शाखाओं में भी थोड़ी बहुत फीस का भुगतान करके भी पैसे जमा किये जा सकते हैं |
  • Current Bank Account के माध्यम से खाताधारक अपने लेनदारों को चेक, पे करंट अकाउंट क्या होता है आर्डर, डिमांड ड्राफ्ट प्रत्यक्ष रूप से भुगतान करने के लिए जारी कर सकता है |
  • बैंक चालू खाताधारकों को ओवरड्राफ्ट फैसिलिटी भी प्रदान करते हैं |
  • हालांकि चालू खाते की तरलता के कारण इस पर किसी प्रकार का कोई ब्याज अर्जित नहीं किया करंट अकाउंट क्या होता है जा सकता लेकिन अकाउंट बैलेंस पर बेहद कम ब्याज की उपलब्धता इस प्रकार के खाताधारकों को इनके उपयोग के लिए और भी आकर्षक बनाता है |
  • बिज़नेस इकाइयों को Current Bank Account होने के अन्य भी अनेकों फायदे जैसे फ्री इन्वार्ड रेमिटेंस, किसी भी लोकेशन से जमा एवं निकासी, किसी भी लोकेशन को ट्रान्सफर इत्यादि मिलते हैं |
  • बिजनेसमैन बिना किसी सीमा के अपने खाते से पैसे निकाल सकता है लेकिन यदि भारत सरकार ने इस पर कोई कर लगाया होगा तो उसे यह देना पड़ेगा |
  • Current Bank Account देश की औद्योगिक प्रगति को सुविधा एवं गति प्रदान करता है क्योंकि इसके न होने पर उद्यमियों को अनेकों समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है |
  • बिज़नेस को तेज एवं सुविधाजनक लेनदेन करने के लिए बैंकों द्वारा इन्हें इन्टरनेट बैंकिंग एवं मोबाइल बैंकिंग भी प्रदान की जाती है |
  • इसके अलावा कोई भी उद्यमी अपने Current Bank Account के माध्यम से कभी भी और कहीं भी और अनेकों लोकेशन पर फण्ड निकाल एवं ट्रान्सफर कर सकता है |

चालू खाता के नुकसान (Disadvantages of Current Bank Account):

चालू खाता के नुकसान कुछ इस प्रकार से हैं |

  • Current bank Account पर ब्याज न मिलने या बेहद कम मिलने की वजह से उद्यमी ब्याज के माध्यम से कमाई करने के अवसर को गँवा देता है |
  • चालू खाते को नियमित रूप से ऑपरेट करने में खाताधारक पर कुछ अतिरिक्त बोझ पड़ सकता है क्योंकि अधिकांश पैकेज अतिरिक्त सेवाओं के लिए अतिरिक्त चार्ज करते हैं |
  • इस प्रणाली में कागज़ी कार्यवाही और प्रिंट वर्क होने की वजह से यह समय खाने वाला एवं लम्बा हो जाता है |
  • कॉर्पोरेट बिज़नेस ट्रांजेक्शन की वजह से बैंकों को बड़ी फीस देनी पड़ सकती है |
  • हालांकि Current bank Account में एक दिन में कितनी भी बार पैसे जमा किये जा सकते हैं लेकिन एक दिन में पैसे निकालने की सीमा इनमे तय होती है |

Axis Bank में महंगा हुआ खाता मेंटेन करना, मिनिमम बैलेंस 50 प्रतिशत बढ़ा ATM से निकासी भी महंगी

Edited by: India TV Paisa Desk
Published on: April 29, 2021 11:52 IST

Axis Bank में महंगा हुआ खाता. - India TV Hindi

Photo:FILE

Axis Bank में महंगा हुआ खाता मेंटेन करना, मिनिमम बैलेंस 50 प्रतिशत बढ़ा ATM से निकासी भी महंगी

नई दिल्ली। Axis Bank के ग्राहकों को यह खबर परेशानी में डाल सकती है। अब ग्राहकों के लिए बैंक में अकाउंट मेंटेन करना बहुत महंगा हो गया है। प्राइवेट सेक्टर के इस बैंक ने बचत खाते में मिनिमम बैलेंस की सीमा को 50 प्रतिशत तक बढ़ा दिया है। इसके साथ ही बैंक ने एटीएम पर सीमा से अधिक विड्रॉल करने पर अब अधिक फाइन भरना होगा। एक्सिस बैंक ने अपने सेविंग बैंक अकाउंट से जुड़े कई तरह के शुल्क में संशोधन किया है। बैंकों द्वारा विभिन्न शुल्कों में की गई यह वृद्धि एक मई से प्रभावी हो जाएगी।

कैश निकालना भी महंगा

एक्सिस बैंक के नए नियमों के अनुसार अब बैंक में जमा अपना पैसा निकालना भी महंगा हो गया है। अकाउंटहोल्डर को एक माह में चार बार या दो लाख रुपये तक (दोनों में जो पहले हो) की बिना किसी शुल्क के निकासी की सुविधा देता है। इससे सीमा से अधिक पैसे निकालने पर पांच रुपये प्रति 1000 रुपये पर या 150 रुपये (दोनों में से जो अधिक हो) का बैंक का शुल्क देय होता है। अब संशोधन के बाद तय सीमा से ज्यादा पैसे निकालने पर प्रति 10 रुपये प्रति 1000 रुपये पर या कुल 150 रुपये (दोनों में जो अधिक हो) का शुल्क देय होगा।

पढें- नया डेबिट कार्ड मिलते ही करें ये काम! नहीं तो हो जाएगा नुकसान

Current Account Aur Savings Account Me Kya Antar Hai

आज के इस आर्थिक युग में पैसों के लेनदेन में बैंकों की भूमिका एक धूरी के समान हो गयी है फिर वो चाहे व्यवसाय हो, कामगारों की सैलरी का लेनदेन हो या फिर बचत करने की मंशा हो जहाँ कहीं मुद्रा विनिमय की बात आती है वहां हमें बैंकों की जरुरत महसूस होने लगती है। बैंकों में पैसों के लेनदेन के लिए कई तरह के एकाउंट्स होते हैं जिनमे करंट अकाउंट और सेविंग्स अकाउंट मुख्य होते हैं। व्यक्ति अपनी जरुरत के हिसाब से अपना अकाउंट खोलता है किन्तु उसे पता होना चाहिए किस अकाउंट का क्या काम है उससे क्या लाभ है। आईये देखते हैं सेविंग्स और करंट अकाउंट क्या हैं और इनमे क्या अंतर हैं


करंट अकाउंट या चालु खाता क्या होता है


करंट अकाउंट या चालु खाता वास्तव में केवल मनी ट्रांजेक्शन के लिए ही खोला जाता है। यह अकाउंट बिजिनेस की सुविधा के लिए बनाया गया है ताकि व्यवसायी अपने हर कलेक्शन को इसमें दिनभर जमा कर सके और जब चाहे किसी को भुगतान भी कर सके। इस तरह के अकाउंट में ट्रांजेक्शन की कोई लिमिट नहीं होती पर कई बैंकों में इसमें एक निश्चित न्यूनत्तम राशि रखना होता है अन्यथा कुछ चार्ज देना पड़ता है। करंट अकाउंट में जमा राशि पर कोई ब्याज नहीं मिलता है।

करंट करंट अकाउंट क्या होता है बैंक अकाउंट को ओपन करने के लिए किन डॉक्यूमेंटस की ज़रूरत होती है ?

1) एप्लिकेशन फॉर्म जो बैंक से दिया जाता है

2) एड्रेस प्रूफ ( रेशन कार्ड, इलेक्शन कार्ड, या लाइट बिल)

3) Date of Birth Proof ( आधार कार्ड, DOB Certificate, )

5) Contect Details ( Mobile Number, Email I’d )

अगर आपके पास इतने प्रूफ है तो यह काम कर सकते है आप, ओर बैंक भी आप से यही requried कर सकते है,

करंट बैंक अकाउंट ओर Saving Account क्या क्या अलग है ?

आप को saving Account क्या है इस के बारे में हम नए पोस्ट में लिखेंगे में यहां पर आप को सेविंग अकाउंट ओर करंट अकाउंट में क्या अलग है इस के बारे में यहां पर बताएंगे,

1) सेविंग बैंक अकाउंट में आप सिर्फ इतना ही पैसा निकाल सकते है जितनी बैंक ने लिमिट दी है , लेकिन करंट बैंक अकाउंट में आप unlimited transection कर सकते है,

2) दूसरी बात करंट अकाउंट से आप को जमा राशि पर कोई ब्याज नहीं मिलता है लेकिन सेविंग अकाउंट में यह दिया जाता है,

3) सेविंग अकाउंट में आप जीरो Balance पर भी अकाउंट खुलवा सकते है लेकिन करंट अकाउंट में आप को मिनिमम बैलेंस रखना होगा नहीं तो चार्ज लगता है इस में,

4) सेविंग बैंक अकाउंट में बैलेंस रखने की लिमिट होती है, अगर ज्यादा बैलेंस मेनटेन करते है तो टैक्स देना होता है, लेकिन करंट अकाउंट में कोई लिमिट नहीं है,

बचत खाता किसे कहते हैं – Savings account kya hota hai?

जैसा की इसका नाम ही है बचत खाता यानी सेविंग अकाउंट, यह अकाउंट अपने पैसो को सेव करने के लिए खोला जाता है। इस अकाउंट को कोई भी व्यक्ति जैसे आम नागरिक, सरकारी कर्मचारी, जॉव करने वाला व्यक्ति, क्षात्र, या पेंशन वाला व्यक्ति इत्यादि कोई भी Saving account खुलवा सकता है। सेविंग अकाउंट में जमा की हुई राशि (पैसे) पर खाताधारक को 4-6% ब्याज (Interest) भी दिया जाता है। और यह Interest rate अलग-अलग बैंको की अलग-अलग होती है। इसमें आप जितने चाहे उतने पैसे जमा कर सकते हैं।

लेकिन बचत खाता में कुछ पाबंदिया होती है, इसमें आप एक दिन में केवल 5 transection ही कर सकते हैं। जिसके कारण खाताधारक सेविंग अकाउंट से पैसे निकालने में दिक्कत होती है इसके साथ ही आप बचत खाता से 50 रुपये से कम पैसे नहीं निकाल सकते हैं। और ATM से 6 महीने के अंदर 30 से अधिक बार पैसे नही निकाल सकते हैं। ज्यातर बैंक अपने सेविंग अकाउंट पर मिनिमम बैलेंस रखने के लिए बाध्य करती हैं। यह अमाउंट सरकारी बैंको में 500 से 1000 तक हो सकती है और प्राइवेट बैंको में 5000 से 25000 तक की न्यूनतम राशि रखने के लिए बाध्य करती है। लेकिन बैंक समय-समय पर इन नियमों में बदलाव भी कर सकती है।

चालू खाता क्या होता है – Current account kya hota hai in hindi

चालू खाता ऐसे लोगों के लिए होता है जिनका रोज का Transitions लाखो में होता है। और एक ही दिन में कई ट्राजेक्शन होते रहते हैं। क्योंकि चालू खाता (Current account) में आप एक दिन में जितने चाहे उतने पैसो का लेन-देन यानी ट्रान्जेक्शन कर सकते है। इसमें पैसो की लेन-देन पर किसी भी प्रकार की कोई लिमिटेशन नही होती है। करंट अकाउंट मुख्य रूप से उद्दयमी, कम्पनी, फर्म और छोटे-बड़े व्यापारी के लिए होता है। जिनके पैसो का फ्लो ज्यादा होता है। लेकिन आम तौर पर इसे भी कोई भी व्यक्ति खुलवा सकता है।

Current account में रखे गए पैसो पर बैंक कोई भी ब्याज नही देता है। यानी की आप इसमें सेविंग अकाउंट की तरह अपने जमा पैसो पर कोई भी इंटरेस्ट नही प्राप्त कर सकते हैं। लेकिन आपसे बैंक सर्विस चार्ज अलग से लेती है।

इसका बहुत बड़ा फायदा यह होता है कि इसमें Overdraft की सुविधा ग्राहक को दी जाती है। इसका मतलब यह है कि जब आपके चालू खाता (Current account) में पैसे नही रहते हैं या जितने पैसे हैं उससे ज्यादा भी आप पैसे निकाल सकते हैं। और फिर बाद में बैंक को चुका सकते है। इसके अलावा बैंक डिमांड ड्राफ्ट, पेऑर्डर जारी करने, NEFT से फंड ट्रांसफर करने, चेक कलेक्शन, भुगतान और मुफ्ट कैश डिपोजिट सामिल है।

आवर्ती जमा खाता क्या होता है – Recurring deposit account meaning in hindi

आवर्ती जमा खाता यानी Recurring deposit account जिसे सॉर्ट में RD account भी कहते हैं। RD A/C उनके लिए होता है जो अपनी एक निश्चित तय धन राशि एक निश्चित समय के लिए हर महीने जमा करना चाहते हैं। और यह निश्चित समय अवधि पूरा हो जाने पर अधिक ब्याज के साथ उनका पैसा लौटा दिया जाता है।

Recurring deposit account में जमा किए गए पैसो को आप तय समय से पहले नही निकाल सकते हैं। आवर्ती जमा खाता सिंगल या ज्वाइंट खाता खोले जा सकते हैं।

सावधि जमा खाता किसे कहते हैं – Fixed deposit account meaning in hindi

Fixed deposit account जिसे आम तौर पर FD भी कहा जाता है। यह ऐसा अकाउट होता है जिसमें विशेष समय अवधि के लिए एक बार में ही एक तय की गई राशि फिक्स (जमा) कर दिया जाता है। इसमें भी RD account की तरह तय समय से पहले पैसे नही निकाल सकते हैं। समय से पहले पैसे निकाल तो सकते हैं पर आपको बैंक इसके लिए पैनालिटी देता है, जो सभी बैंको में अलग अलग होता है। Fixed deposit account में उपभोक्ता को High interest rate मिलता है। जो कि जमा किये गए पैसे और समय अवधि के हिसाव से अलग-अलग होता है। अधिकतम 10 सालों के लिए यह FD Account खोला जाता है।

तो दोस्तों ये थे बैंक अकाउंट जो कि बैंको द्वारा मेन रुप से यही 4 अकाउंट खोले जाते हैं। इस पोस्ट में हमने जाना कि Bank account kitne prakar ke hote hain – बैंक में अकाउंट कितने प्रकार के होते हैं? कौन से अकाउंट किस काम के लिए खोले जाते हैं। और इनके क्या क्या फायदे और नुकसान होते हैं।

रेटिंग: 4.40
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 796