आज के समय में व्यापार में सजगता और सुरक्षा का पालन करके ही व्यापार करना चाहिए। आज की समस्या समाधान मीटिंग का विशेष रूप से अम्बाजी टेक्सटाइल मार्केट, न्यू टेक्सटाइल मार्केट की पार्टी का पुराना बडे़ विवाद को सलटाया गया है।

यमुना एक्सप्रेस-वे पर अलग-अलग तीन हादसों में भाई बहिन समेत 3 बाइक सवार घायल

YouTube पर लाइव शॉपिंग से जुड़ी सलाह

अगर आप एक व्यापारी या कंपनी हैं और आपका YouTube चैनल भी है, तो आपके पास अपने YouTube चैनल पर, कई तरीके से अपने ब्रैंड के प्रॉडक्ट दिखाने का विकल्प होता है. इनमें, लाइव स्ट्रीम भी शामिल हैं. अगर खरीदे जा सकने वाले प्रॉडक्ट के बारे में बात करने के लिए, आपको लाइव स्ट्रीम होस्ट करना है, तो अपने प्रॉडक्ट फ़ीड के लिए, कुछ सबसे सही तरीकों के बारे व्यापारियों की सलाह में जानें.

शुरू करने से पहले, पक्का करें कि आपने YouTube Shopping के फ़ीड को शामिल करने की प्रोसेस पूरी कर ली है. साथ ही, आपको YouTube पर लाइव स्ट्रीम होस्ट करने से जुड़ी जानकारी मिल गई है.

YouTube Shopping प्रोग्राम में शामिल होना (>दो हफ़्ते पहले)

अगर आपने अब तक YouTube Shopping प्रोग्राम में शामिल होने की प्रक्रिया पूरी नहीं की है, तो लाइव स्ट्रीम करने से कम से कम दो हफ़्ते पहले ऐसा कर लें. शामिल होने के लिए, आपको लाइव स्ट्रीम वाले प्रॉडक्ट को फ़ीड में सीधे तौर पर अपलोड करना होगा. इसके अलावा, Shopping प्लैटफ़ॉर्म या खुदरा दुकानदार की मदद से फ़ीड में प्रॉडक्ट अपलोड किए जा सकते हैं.

आपको अपनी लाइव शॉपिंग स्ट्रीम में जिन प्रॉडक्ट को टैग करना है उनके लिए, खाते या प्रॉडक्ट से जुड़ी समस्याओं को लाइव स्ट्रीम शुरू होने से कम से कम एक हफ़्ते पहले हल करें. ये ऐसी समस्याएं हैं जो हमारी व्यापारियों की सलाह Shopping से जुड़ी नीतियों या YouTube की नीतियों का उल्लंघन करती हैं.

फ़ीड में कोई भी बदलाव न करना (24 घंटे पहले)

यह पक्का करने के लिए कि आपके प्रॉडक्ट, लाइव स्ट्रीम के दौरान खरीदे जा सकते हों, लाइव स्ट्रीम करने के 24 घंटे पहले तक, अपने फ़ीड या खाते में कोई बदलाव न करें. बदलाव करने पर, हो सकता है कि आपके प्रॉडक्ट अस्वीकार कर दिए जाएं और इसी वजह से, वे आपकी लाइव स्ट्रीम में टैग नहीं किए जा सकेंगे.

भले ही, आप लाइव स्ट्रीम को होस्ट करने के लिए तैयार हों या न हों, नए प्रॉडक्ट को टैग करने के तरीके के बारे में जानने के लिए, टेस्ट लाइव स्ट्रीम चलाना अच्छा रहता है.

व्यापारियों को सलाह, अनजान युवती के वाटसएप वीडियो काल पर न करें बात

जागरण संवाददाता, नोएडा : अगर कोई अनजान युवती आपके वाट्सएप पर संदेश भेजती है और इसके बाद आपको वीडियो काल करती है, तो बचकर रहें। ये युवतियां स्वयं को नग्नावस्था में लाकर आपके साथ बातचीत कर वीडियो बनाती हैं और फिर इसमें छेड़छाड़ कर आपको ब्लैकमेल कर सकती हैं।

उत्तर प्रदेश उद्योग व्यापार प्रतिनिधि मंडल के जिलाध्यक्ष नरेश कुच्छल ने सभी व्यापारियों के लिए एडवाइजरी जारी की है। जिसमें कहा गया सबसे पहले अनजान युवतियों से संपर्क न करें। अगर बातचीत हो भी जाती है, तो जब वह वीडियो काल करने के लिए कहे या फिर स्वयं वीडियो काल करे तो सतर्क हो जाएं। यदि कोई अनजान या अपरिचित नंबर से वीडियो काल करता है, तो पहले काल उठाने से बचें, हो सके तो कैमरे के ऊपर अपनी उंगली रख लें या तो उठाने से पहले कैमरे का फेस चेंज कर दें। मतलब सामने से फोन न उठाते हुए बैक से मोबाइल को उठाएं। पहले नाम पूछ लें, उसके बाद ही बात करें, डरें नहीं, पुलिस के पास जाएं। उन्होंने बताया कि नोएडा के व्यापारियों के पास ऐसे काल आने की शिकायत है।

यीवू में व्यापार न करने की सलाह

बीजिंग : दो भारतीय व्यापारियों के खिलाफ मुकदमा चलाने के मामले में चीन और भारत के बीच विवाद सोमवार को और गहरा गया। भारत ने व्यापारियों की सलाह दूसरी बार चेतावनी जारी करते हुए व्यापारियांे को यीवू में व्यापार न करने की सलाह दी है।

यीवू चीन का प्रमुख जिंस बाजार है। व्यापारियों को सतर्क करते हुए कहा गया है कि उन्‍हें वहां लंबी और जवाबदेह न्यायिक प्रक्रिया से गुजरना पड़ सकता है। इससे पहले जनवरी में व्यापारियों को इसी तरह की सलाह जारी की गई थी। अभी पहले वाला मामला समाप्त होने की ओर ही था कि इसी तरह का एक और मामला सामने आया है। दो भारतीय व्यापारियों श्याम सुंदर अग्रवाल और दीपक रहेजा के खिलाफ भी इसी तरह का मामला था, जो अभी पूरी तरह खत्म नहीं हो पाया।

इन दोनों व्यापारियों को स्थानीय कारोबारियों ने पिछले साल दिसंबर में बंधक बना लिया था और यातना दी थी। भारतीय की ओर से राजनयिक हस्तक्षेप के बाद ही इन व्यापारियों को छुड़ाया जा सका था। उसके बाद से इन दोनों व्यापारियों के यात्रा करने पर प्रतिबंध है और वे चीन से बाहर नहीं जा सकते हैं। शांगहाए में भारत के वाणिज्य दूतावास से मिल रही वित्तीय मदद के बल पर ये दोनों व्यापारी अपना मामला लड़ रहे हैं।

सूरत : एसएमए की व्यापारियों को सलाह, किसी भी व्यापारी की पुरानी गुडविल के आधार पर विश्वास नहीं करें

सूरत मर्कन्टाइल ऐसोसिएशन की रविवार दिनांक 11/07/2021 की समस्या समाधान मीटिंग में कपड़ा व्यापारियों की पेमन्ट सम्बंधित शिकायतों का अम्बार लग रहा है। एसएमए प्रमुख नरेन्द्र साबू ने सभी व्यापारी भाईयों से अपील की है कि अब समय बदल गया है। अतः किसी भी व्यापारी की पुरानी गुडविल के आधार पर विश्वास नहीं करें। बल्कि आज की वर्तमान परिस्थिति की पुरी जानकारी करने के बाद ही व्यापार करना चाहिए। आगे भविष्य में बहुत ही संभलकर व्यापार करने की जरुरत है वरना व्यापार की बर्बादी के साथ-साथ पारिवारिक नुकसान की भरपाई करना मुश्किल हो जायेगा। एसएमए प्रमुख ने व्यापार आगे कैसे करें इसके बारे मे अपने अनुभव से अवगत कराया।

यह भी पढ़ें

सीटीआई ने कहा है कि स्वास्थ्य मंत्रालय का यह निर्णय व्यापारियों की सलाह व्यापारियों को बेहद नागवार गुजरा है. स्वास्थ्य मंत्रालय द्वारा दिया गया विज्ञापन सीधे तौर पर देश के आठ करोड़ और दिल्ली के नौ व्यापारियों की सलाह लाख खुदरा व्यापारियों पर कड़ा आघात है और सीधे तौर पर भारत के संविधान में निहित मौलिक अधिकार का उल्लंघन है जो किसी भी प्रकार के भेदभाव को रोकता है और ऑनलाइन एवं ऑफलाइन व्यापारियों में भेदभाव करता है.

बृजेश गोयल ने कहा कि केन्द्र सरकार पूरी तरह से ई कॉमर्स कंपनियों के दवाब में काम कर रही है. पिछले 5 साल से व्यापारी एक ई कॉमर्स रेगुलेटरी ऑथॉरिटी का गठन करने की मांग कर रहे हैं जिस पर केन्द्र सरकार ध्यान नहीं दे रही है.

सीटीआई के महासचिव विष्णु भार्गव और रमेश आहूजा ने बताया कि ई कॉमर्स पर सरकार का कोई स्पष्ट रुख न व्यापारियों की सलाह होने के कारण देश भर के व्यापारियों में बेहद भ्रम की स्तिथि है. एक तरफ केंद्रीय वाणिज्य मंत्री पियूष गोयल जोरदार शब्दों में देश के क़ानून एवं नियमों का पालन करने की बात समय-समय पर कर रखें हैं वहीं दूसरी ओर पहले नीति आयोग, फिर सरकार के कुछ मंत्रालय और अब स्वास्थ्य मंत्रालय ऑनलाइन शॉपिंग को बढ़ावा दे रहा है. कोई भी सरकारी निकाय यह नहीं कह रहा कि विदेशी ई कॉमर्स कंपनियों को कानून और नियमों का पालन करना चाहिए नहीं तो उनके खिलाफ कड़ी से कड़ी कार्रवाई की जाए. साफ़ तौर पर सरकार अथवा सम्बंधित सरकारी विभाग देश के नियमों और कानून की रक्षा करने में बेहद असफल साबित हुए हैं. यह एक कटु सत्य है.

रेटिंग: 4.41
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 606