डेटा को इकट्ठा, रिकॉर्ड किया जाता है, और यूटीसी समय में रिपोर्ट किया जाता है जब तक अन्यथा निर्दिष्ट न हो।

what is market cap?

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

Market Capitalization is one way to rank the relative size of a cryptocurrency. It's calculated by multiplying the Price by the Circulating Supply.

मार्केट कैप = मूल्य X परिचालित आपूर्ति

" परिचालित आपूर्ति" , " कुल आपूर्ति " , और " अधिकतम आपूर्ति " , के बीच क्या अंतर है?

" परिचालित आपूर्ति" मार्केट और सार्वजनिक आपूर्ति का अनुमान है
कुल आपूर्ति अभी अस्तित्व में कॉइन की संख्या है
अधिकतम आपूर्ति उस मुद्रा के पूरे जीवनकाल में अधिकतम अस्तित्व में आ सकने वाले कॉइनो की संख्या है

We've found that Circulating Supply is a much better metric for determining the market capitalization. Coins that are locked, reserved, or not able to be sold on the public market are coins that can't affect the price and thus should not be allowed to affect the market capitalization as well. The method of using the Circulating Supply is analogous to the method of using public float for determining the market capitalization of companies in traditional investing.

कॉइन और टोकन मे क्या अंतर है।

कॉइन एक क्रिप्टोकरेंसी है जो स्वतंत्र रूप से काम कर सकती है ।

A Token is a cryptocurrency that depends on another cryptocurrency as a platform to operate. Check out the crypto tokens listings to view a list of tokens and their respective platforms.

CoinMarketCap पर सूचीबद्ध होने मार्केट कैप क्या है के लिए क्रिप्टोक्यूरेंसी या एक्सचेंज के लिए मापदंड क्या है?

कृपया इस विषय पर विस्तृत जानकारी के लिए कार्यप्रणाली के लिस्टिंग मानदंड का संदर्भ लें।

जब एक्सचेंज पर कोई शुल्क नहीं लगाया जाता है, तो यह संभव है कि व्यापारी (या बॉट) स्वयं व्यापार करके और दंड के बिना कई "नकली " मात्रा उत्पन्न करे सके। यह निर्धारित करना असंभव है कि मात्रा कितना नकली है, इसलिए हम पूरी तरह से गणना से अलग नहीं करते हैं।

Market Cap क्या होता है ! What Is Market Cap In Hindi ! और इसकी गणना कैसे होती है

शेयर मार्किट की दुनिया में कोनसी कंपनी बड़ी है कोनसी कंपनी छोटी यह कंपनी की मार्किट कैप फैसला करती है आज के इस लेख में हम जानेंगे मार्किट कैप क्या है Market Cap Meaning & Calculation In Hindi इसकी गणना कैसे की जाती और साथ ही जानेंगे लार्ज कैप, मिड कैप, मार्केट कैप क्या है स्माल कैप कंपनियों के बारे में विस्तारपूर्वक से।

Market Cap क्या होता है ! What Is Market Cap In Hindi ! और इसकी गणना कैसे होती है

Market cap कैसे देखा जाता है – How is Market Cap Viewed in Hindi

आप मार्केट के कुछ इस प्रकार समझ सकते हैं.

मान लीजिए jobkaisepaye.com एक कंपनी है, और इस कंपनी की 1 शेयर का प्राइस ₹1,000 है, और इस कंपनी द्वारा जारी किया गया कुल शेयरो की संख्या ₹100,000 है, तो यदि हम कंपनी के market cap का पता लगाना होगा तो हम इसकी market cap का पता इस फार्मूले से लगा सकते हैं.

शेयर का प्राइस × कुल शेयर की संख्या

तो दोस्त वैसे हमें या पता चलता है, कि यह jobkaisepaye.com कंपनी के कुल market cap 10 करोड़ है.

मार्केट कैप कितने प्रकार के होते हैं – How many types are there in the market

किसी भी कंपनी के market cap की तुलना करने के लिए, Market capitalization को 3 भागों में बांटा गया है, जो कुछ इस प्रकार है.

Large Cap :मार्केट कैप क्या है -

Large Cap के अंदर वो कंपनियां आती हैं, जिन कंपनियों का कुल मार्केट capitalization 20,000 करोड़ रुपए से अधिक होता है, लोग इसे आमतौर पर blue chip stocks भी कहते हैं, जो पिछले दशक से share market में अच्छा रिस्पांस दे रही होती है, और अपने निवेशकों को अच्छा मुनाफा प्रदान करती रही होती हैं.

Mid Cap:-

Mid Cap के अंदर वह कंपनियां आती हैं, जिस कंपनी का कुल market cap 5000 करोड़ से लेकर 20000 करोड़ रुपए के बीच में होता है,

इन कंपनियों में निवेश करना थोड़ा रिस्की माना जाता है,

लेकिन फ्यूचर को देखा जाए तो कुछ कंपनियां long term में शेयर लेने वाले ग्राहक को एक अच्छा मुनाफा प्रदान करती हैं.

मार्केट केपीटलाइजेशन क्यों इतना इंपोर्टेंट है – Why Market Capitalization Is So Important

market capitalization इसलिए महत्वपूर्ण है, क्योंकि मार्केट capitalization से तरह-तरह की कंपनियों की एक्चुअल शेयर को देखते हैं.

तथा उन कंपनियों को एक दूसरे से तुलना करते हैं, कि किसका शेयर रिस्की है.

और किसका शेयर रिस्की नहीं है, और किस कंपनी में हमें निवेश करने पर एक अच्छा लाभ मिलेगा.

देखा जाए तो मार्केट में जो कंपनियां लार्जकैप वाली हैं, उन्हें कम रिस्की कंपनियों के अंडर में रखा गया है, क्योंकि यह कंपनियां अपने निवेशकों को एक अच्छा रिटर्न देती हैं.

Market Cap: सेंसेक्स की टॉप 10 में से इन कंपनियों के निवेशकों की बढ़ी कमाई, केवल एक कंपनी रही नुकसान में

By: ABP Live | Updated at : 27 Nov 2022 12:57 PM (IST)

शेयर बाजार (फाइल फोटो)

Market Capitalization: सेंसेक्स की टॉप 10 में से नौ कंपनियो के मार्केट कैपिटलाइजेशन (मार्केट कैप) में बीते हफ्ते सामूहिक रूप से 79,798.3 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई. बीते सप्ताह बीएसई का 30 शेयरों वाला सेंसेक्स 630.16 अंक या एक फीसदी चढ़ा. सेंसेक्स शुक्रवार को अपने नए सर्वकालिक उच्चस्तर 62,293.64 अंक पर बंद हुआ. सबसे अधिक फायदे में सूचना प्रौद्योगिकी क्षेत्र की कंपनियां टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज (टीसीएस) और इन्फोसिस रहीं. अडाणी एंटरप्राइजेज को छोड़कर सेंसेक्स की टॉप 10 कंपनियों में अन्य फायदे में रहीं.

सबसे ज्यादा फायदे में रहीं TCSऔर इंफोसिस
समीक्षाधीन सप्ताह में टीसीएस का मार्केट कैपिटलाइजेशन 17,215.83 करोड़ रुपये बढ़कर 12,39,997.62 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. इन्फोसिस के मार्केट कैपिटलाइजेशन में 15,946.6 करोड़ रुपये की बढ़ोतरी हुई और यह 6,86,211.59 करोड़ रुपये पर पहुंच गया. रिलायंस इंडस्ट्रीज की बाजार हैसियत 13,192.48 करोड़ रुपये बढ़कर 17,70,532.20 करोड़ रुपये पर पहुंच गई. वहीं हिंदुस्तान यूनिलीवर का मूल्यांकन 12,535.07 करोड़ रुपये के उछाल के साथ 5,95,997.32 करोड़ रुपये रहा.

मिड कैप कंपनी

आमतौर पर जिस कंपनी का मार्केट वैल्यू करीब 2,000 करोड़ रुपए से लेकर 10,000 करोड़ रुपए तक होता है, वो कंपनी मिड कैप की कैटेगरी में आती है। मिड कैप कंपनियों में बड़े आकार की कंपनी बनने का दमखम होता है। इसमें इन्वेस्टमेंट से ज्यादा रिटर्न पाने का मौका होता है। अगर आप शेयर मार्केट में इन्वेस्टमेंट करने का मन बना रहे हैं, तो आपको एक बार कंपनी की कैटेगरी देख कर ही आप अपना इन्वेस्टमेंट कर सकते है। जिसको आपको बाद में पछताना नहीं पड़े।

दरअसल, जिस कंपनी का मार्केट कैपिटलाइजेशन 10,000 करोड़ रुपए से अधिक होती है, तो उन्हें लार्ज कैप कैटेगरी में रखा जाता है। वहीं, लार्ज कैप होने के कारण इन कंपनियों की मार्केट में मजबूत पकड़ होती है। लार्ज कैप में मार्केट के उतार-चढ़ाव का असर मिड कैप और स्माल कैप की तुलना में कम से कम होता है। बता दें कि, मार्केट करेक्शन पर इसमें ज्यादा अस्थि‍रता देखने को नहीं मार्केट कैप क्या है मिलती, इसकी ग्रोथ संतुलित होती है। एक्सपर्ट के मुताबिक, इस कैप में इन्वेस्टमेंट को सुरक्षित मानते हैं। हालांकि, भारत की ज्यादातर लार्ज कैप कंपनियां वर्ल्‍ड रैंकिंग में मिड कैप या स्‍मॉल कैप कंपनियां हो जाती हैं इसलिए दुनिया भर में उन्हीं कंपनियों को लार्ज कैप का दर्जा मिलता है जिसका मार्केट कैप करीब 10 अरब डॉलर से ज्यादा होता है।

रेटिंग: 4.51
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 339