केंद्रीय बैंक अपनी मौद्रिक नीतियों को प्रतिबंधात्मक रखेंगे, और सरकारें, जो पहले ही महामारी के दौरान बड़ी मात्रा में उधार ली गई धनराशि खर्च कर चुकी हैं, नकदी का छिड़काव नहीं करेंगी। एक अतिरिक्त जोखिम है कि हम सक्रिय मात्रात्मक तंगी देखेंगे क्योंकि फेड और कुछ अन्य प्रमुख केंद्रीय बैंक अपनी भारी बैलेंस शीट को कम करने की कोशिश करते हैं। फेड ने पहले ही संकेत दे दिया है कि वह दरें और बढ़ाएगा और यह कि संकुचन नीति लंबे समय तक बनी रहेगी।

शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो जरूरी है Demat Account होना, जानें कैसे खुलता है, क्या होता है चार्ज

शेयर बाजार में निवेश करना चाहते हैं, तो जरूरी है Demat Account होना, जानें कैसे खुलता है, क्या होता है चार्ज

Demat Account : शेयर बाजार में ट्रेडिंग करने के लिए जरूरी है डीमैट अकाउंट. (प्रतीकात्मक तस्वीर)

शेयर बाजार में ट्रेडिंग (Share Market Trading) कर पैसा बहुत से लोग बनाना चाहते हैं लेकिन शेयर्स खरीदने और बेचने के लिए जिस डीमैट अकाउंट की जरूरत होती है, उसके बारे में कम ही जानकारी होती है. डीमैट अकाउंट कैसे काम करता है, इस खाते को खोलने के लिए जरूरी कागजात कौन से होते हैं और कितनी फीस डीमैट खाते को खोलने के लिए खर्च करनी पड़ती है. ऐसे बहुत सारे सवालों के जवाब हम आपको इस खबर की मदद से दे रहे हैं क्योंकि शेयर ट्रेडिंग के लिए डीमैट अकाउंट होना जरूरी है, इसके बिना ट्रेडिंग नहीं की जा सकती है.

तो आइए जानते हैं डीमैट खाते से जुड़ी हर जरूरी जानकारी.

जिस तरह से बैंक अकाउंट होता है. इसी तरह से डीमैट अकाउंट भी बैंक खाते की तरह काम करता है. शेयर बाजार को रेगुलेट करने वाली संस्था SEBI के साफ निर्देश हैं कि बिना डीमैट खाते के शेयरों को किसी भी अन्य तरीके से खरीदा और बेचा नहीं जा सकता है.

डीमैट खाते की सबसे अच्छी बात होती है ये जीरो अकाउंट बैलेंस के साथ भी खोला जा सकता है. इसमें मिनिमम बैलेंस रखने की जरूरत नहीं होती है. शेयर बाजार में निवेश के लिए निवेशक के पास बैंक अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और डीमैट खाता होने चाहिए क्योंकि डीमैट खाते में आप शेयरों को डिजिटल रूप से अपने पास रख सकते है. तो वहीं ट्रेडिंग अकाउंट से मदद से शेयर, म्युचुअल फंड और गोल्ड में निवेश किया जा सकता है.

कैसे खोलें डीमैट खाता

- शेयरों में ऑनलाइन निवेश करने के लिए सबसे ज्यादा जरूरी डीमैट खाता होता है. आप इसे HDFC सिक्योरिटीज, ICICI डायरेक्ट, Axis डायरेक्ट जैसे किसी भी ब्रोकरेज के पास खुलवा सकते हैं.

- ब्रोकरेज फर्म का फैसला लेने के बाद आप उसकी वेबसाइट पर जाकर डीमैट अकाउंट ओपन करने का फॉर्म सावधानी से भरने के बाद उसकी KYC प्रोसेस को पूरा करें.

- KYC के लिए फोटो आईडी प्रूफ, एड्रेस प्रूफ के लिए डॉक्यूमेंट की जरूरत पड़ेगी. जब ये प्रोसेस पूरी हो जाएगा तो उसके बाद इन-पर्सन वेरिफिकेशन होगा. संभव है जिस फर्म से आप डीमैट अकाउंट खुलवा रहे हों, वो अपने सर्विस प्रोवाइडर के दफ्तर आपको बुलवाएं.

- इस प्रोसेस को पूरा शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या होती हैं होने के बाद आप ब्रोकरेज फर्म के साथ टर्म ऑफ एग्रीमेंट साइन करते है. ऐसा करने के बाद आपका डीमैट अकाउंट खुल जाता है.

- फिर आपको डीमैट नंबर और एक क्लाइंट आईडी दी जाएगी.

मल्टीमीडिया

Top IPOs in 2022: इन कंपनियों की लिस्टिंग ने जमकर दिया मुनाफा, 8 गुना से ज्यादा बढ़ी निवेशकों की वेल्थ

चीन में एक बार फिर कोरोना वायरस का विकराल रूप दिख रहा है। अस्पताल भरे पड़े हैं, मरीज डॉक्टरों से झगड़ रहे हैं, दवाओं का स्टॉक खत्म है। अपनी Zero Covid Policy का दम भरने वाला चीन, इस पॉलिसी में ढील देने के बाद इतना लाचर और बेबस क्यों नजर आ रहा है?

Zerodha शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या होती हैं के बॉस ने बताया क्यों मुनाफ़ा बनाना है मुश्किल

ओवरट्रेडिंग से मुनाफा कमाना आसान नहीं, अनुशासन में रहकर ट्रेड करें ट्रेडर्सः निखिल कामत, को-फाउंडर, Zerodha

Crypto In 2022: BitCoin-Ethereum के लिए महामारी बना यह साल, अब ऐसे लौटेगा पटरी शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या होती हैं पर क्रिप्टो मार्केट

Goodbye 2022: इस साल के Best IPO, क्या आपके पास शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या होती हैं है?

Top IPOs in 2022: इन कंपनियों की लिस्टिंग ने जमकर दिया मुनाफा, 8 गुना से ज्यादा बढ़ी निवेशकों की वेल्थ

चीन में एक बार फिर कोरोना वायरस का विकराल रूप दिख रहा है। अस्पताल भरे पड़े शेयर मार्केट में ट्रेडिंग क्या होती हैं हैं, मरीज डॉक्टरों से झगड़ रहे हैं, दवाओं का स्टॉक खत्म है। अपनी Zero Covid Policy का दम भरने वाला चीन, इस पॉलिसी में ढील देने के बाद इतना लाचर और बेबस क्यों नजर आ रहा है?

2023 स्टॉक मार्केट आउटलुक: डाउनसाइड पर अधिक जोखिम की संभावना

जैसा कि मैं इसे लिखने के लिए बैठा, मैंने सोचा कि क्या मुझे इस बारे में संतुलित तर्क देना है कि क्या मुझे लगता है कि 2023 शेयरों के लिए तेजी या मंदी वाला वर्ष होगा। लेकिन फिर मैंने मन ही मन सोचा, "इससे क्या फायदा होगा?"

शायद मेरे लिए निकट और मध्यावधि क्षितिज में आकार लेने वाले कई जोखिमों और कम अवसरों को प्रस्तुत करना मेरे लिए अधिक प्रासंगिक होगा।

कुल मिलाकर, मुझे लगता है कि यह व्यापक पृष्ठभूमि वह नहीं है जिसे आप अत्यधिक जोखिम लेने से जोड़ेंगे। आर्थिक दृष्टिकोण रातोंरात नहीं बदलने वाला है, जिसका अर्थ है कि अभी हम जिन मुद्दों का सामना कर रहे हैं उनमें से अधिकांश 2023 में हमारे साथ हो सकते हैं।

और अक्टूबर में एक बड़ा पलटाव शुरू होने के बाद, फेड के बारे में सकारात्मकता के बारे में बहुत अधिक सकारात्मक रुख अब कीमत में आ गया है। इसलिए, मुझे लगता है कि 2023 में शेयरों के लिए जोखिम कम हो गए हैं।

शेयर बाजार में बिकवाली: बाजार रणनीतिकार बताते हैं कि निवेशक अपना ध्यान बदल रहे हैंशेयर बाजार में बिकवाली: बाजार रणनीतिकार बताते हैं कि निवेशक अपना ध्यान बदल रहे हैं

0 Arun Kumar दिसंबर 17, 2022

शेयर बाजार इस सप्ताह एक पैर कम करने के लिए ट्रैक पर है क्योंकि निवेशकों ने आक्रामक मुद्रास्फीति से लड़ने वाली दरों में बढ़ोतरी की श्रृंखला के बाद फेडरल रिजर्व ने पहले से ही अर्थव्यवस्था को किस तरह का नुकसान पहुंचाया है, इसका आकलन करने के लिए झुकाया।

"हम मानते हैं कि कल एक और उदाहरण था कि कैसे निवेशक अपना ध्यान बदल रहे हैं . फेड क्या करने जा रहा है . से फेड पहले ही क्या कर चुका है . और उनकी महत्वपूर्ण सख्त नीति 2023 में अर्थव्यवस्था के लिए क्या करेगी (अब वह अंत में इसका वास्तविक प्रभाव शुरू हो रहा है), "मिलर तबक के मुख्य बाजार रणनीतिकार मैट माले ने शुक्रवार को एक क्लाइंट नोट में समझाया।

30 शेयरों में से सिर्फ चार शेयर ही हरे निशान पर

आज शुक्रवार की बात करें तो शेयर बाजार में शुरुआती कारोबार के क्रम में सेंसेक्स के 30 शेयरों में से सिर्फ चार शेयर ही हरे निशान पर कारोबार करते नजर आये, जबकि 26 शेयरों में गिरावट दर्ज की गयी. बैंक निफ्टी 457 अंकों की गिरावट के साथ 41,951 के स्तर पर ओपन हुआ. शेयर बाजार में गिरावट के साथ ही भारतीय करेंसी रुपया भी अमेरिकी डॉलर के मुकाबले 0.05 फीसदी कमजोर होकर 82.8000 रुपये के लेवल पर खुला. पिछले दिन यह 82.7625 रुपये के स्तर पर बंद हुआ था.

बीएसई का सेंसेक्स अपने हाई लेवल से अब तक 3500 अंक तक टूट चुका है. नवंबर माह में शेयर बाजार में आयी तेजी से 30 शेयरों वाले इंडेक्स ने पहली बार 63,000 अंक का स्तर क्रास किया था. एक दिसंबर 2022 को सेंसेक्स 63,500 के पार चला गया था. इस हाई लेवल से तुलना करें तो अब तक Sensex 3,500 अंक तक फिसल चुका है.

रेटिंग: 4.38
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 762