इस साल के उतार चढ़ाव के बीच सेंसेक्‍स और निफ्टी का रिटर्न करीब 9 फीसदी हो गया है. 1 जनवरी से अबतक 5000 अंकों से ज्‍यादा, जबकि निफ्टी में करीब 1500 अंकों की तेजी आई है. जून 2022 में शेयर बाजार में खासा करेक्‍शन देखने को मिला था. 17 जून 2022 को निफ्टी 15183 के लेवल तक कमजोर हुआ था. जबकि सेंसेक्‍स में 50921 के लेवल तक गिरावट आई. आज निफ्टी 18888 और सेंसेक्‍स 63583 के लेवल तक पहुंच गया.

क्या मुझे ETF में निवेश करना चाहिए?

ETF शेयर बाजार का अनुभव पाने के लिए सबसे कम लागत का ज़रिया है। वे लिक्विडिटी और रियल टाइम सेटलमेंट देते हैं क्योंकि वे एक्सचेंज पर लिस्टेड( सूचीबद्ध) हैं और उनमें शेयरों की तरह कारोबार होता है। ETFs कम जोखिम वाले विकल्प हैं क्योंकि वे आपके कुछ पसंदीदा शेयरों में निवेश करने के बजाय स्टॉक इंडेक्स का अनुकरण करते हैं और उनमें डाइवर्सिफिकेशन होता है।

ETFs ट्रेड करने के आपके पसंदीदा तरीके में फ्लेक्सिबिलिटी देते हैं जैसे कीमत घटने पर बेचना या मार्जिन पर खरीदना। कमोडिटीज़ और अंतर्राष्ट्रीय निवेशकों को क्या करना चाहिए सिक्युरिटीज़ में निवेश जैसे कई विकल्प ईटीएफ में भी उपलब्ध हैं। आप अपनी पोज़ि‍शनकी हेजिंग(बचाने ) के लिए ऑपशन्स और फ़्यूचर्स का इस्तेमाल भी कर सकते निवेशकों को क्या करना चाहिए हैं जो म्यूचुअल फंड में निवेश करने पर नहीं मिलता है।

हालाँकि, ETFs हर निवेशक के लिए सही नहीं होते हैं। नए निवेशकों के लिए इंडेक्स फंड्स बेहतर विकल्प हैं जो कम रिस्क वाले ऑप्शन को चुनकर लंबी-अवधि के लिए इक्विटी में निवेश करने का फायदा उठाना चाहते हैं। ETFs उन लोगों के लिए भी सही हैं जिनके पास एकमुश्त(लमसम) नगद पैसा है लेकिन अभी तक यह तय नहीं कर पाए हैं कि नकदी का निवेश कैसे किया जाए। वे कुछ समय के लिए ETF में निवेश कर सकते हैं और तब तक कुछ रिटर्न कमा सकते हैं जब तक कि नकदी सही जगह पर इस्तेमाल ना हो जाए। सही ETF का चुनने के लिए ज़्यादातर रिटेल निवेशकों के मुकाबले, वित्तीय बाज़ार की अच्छी समझ होना ज़्यादा ज़रूरी होता है। इसलिए, आपके ETF निवेश को संभालने के लिए निवेश में थोड़ी व्यावहारिक कुशलता की भी ज़रूरत होती है।

इन म्यूचुअल फंड्स ने केवल निवेशकों को क्या करना चाहिए 3.5 साल में दोगुना किया निवेशकों का पैसा, क्या आपको भी करना चाहिए निवेश?

क्ववांट टैक्स प्लान में 5 साल में 22 फीसदी का सीएजीआर दिया है.

क्ववांट टैक्स प्लान में 5 साल में 22 फीसदी का सीएजीआर दिया है.

इन म्यूचुअल फंड्स ने 5 साल में 20 फीसदी या उससे अधिक का सीएजीआर (कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट) दर्ज किया है. अगर किसी निवेशक . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : October 09, 2022, 07:50 IST
निवेश सलाहकार निधि मनचंदा के अनुसार, इन फंड्स ने रिस्क को अच्छे से मैनेज किया है.
उनका कहना है कि इन फंड्स का रिस्क एडजेस्टेड रिटर्न बहुत अधिक है.
बता दें कि क्वांट म्यूचुअल फंड्स की स्कीम्स ने 5 साल में लगभग सभी फंड्स से बेहतर रिटर्न दिया है.

नई दिल्ली. म्यूचुअल फंड बगैर फंड मैनेजमेंट की चिंता किए निवेश से बेहतर रिटर्न कमाने का अच्छा तरीका होते हैं. कई फंड ऐसे होते हैं जो बहुत निवेशकों को क्या करना चाहिए कम समय में निवेश का पैसा दोगुना या अधिक कर देते हैं. ऐसा ही फंड है क्वांट म्यूचुअल फंड. इसकी 4 स्कीम्स क्वांट टैक्स प्लान, क्वांट एक्टिव फंड, क्वांट स्मॉल कैप फंड और क्वांट मिड कैप फंड पिछले 5 साल में रिटर्न देने के मामले में हर इक्विटी फंड से आगे रहे हैं. इन म्यूचुअल फंड्स ने 5 साल में 20 फीसदी या उससे अधिक का सीएजीआर (कंपाउंड एनुअल ग्रोथ रेट) दर्ज किया है.

म्‍यूचुअल फंड निवेशक रहें अलर्ट

BPN फिनकैप के डायरेक्‍टर एके निगम का कना है कि बाजार अपने आलटाइम हाई पर हैं, जबकि कुछ अनिश्चितताएं अभी मौजूद हैं. ऐसे में यह संभव है कि नियर टर्म में कुछ करेक्‍शन देखने को मिल निवेशकों को क्या करना चाहिए सकता है. इसलिए निवेशकों को कुछ अलर्ट रहने की जरूरत है. खासतौर से वे निवेशक जिनके फाइनेंशियल गोल पूरे हो चुके हैं और उनकी उम्र भी कुछ ज्‍यादा हो चकी है.

उनका कहना है कि अगर आप रिटायरमेंट की अवस्‍था में हैं या वहां तक पहुंच रहे हैं तो निवेश को लेकर सजग रहें. अगर आपने जो फाइनेंशियल गोल सेट किया था, उसके नजदीक पहुंच रहे हैं या पहुंच चुके हैं तो समय समय पर प्रॉफिट बुकिंग शरु करें. इसके लिए सिस्‍टमैटिक विद्ड्रॉल प्‍लान बेहतर हो सकता है. ऐसे निवेशक अपना कुछ पैसा डेट या फिक्‍स्‍ड इनकम प्‍लान में भी डाल सकते हैं.

अगर लक्ष्‍य पूरे होने के करीब हैं

उदाहरण के तौर पर मान निवेशकों को क्या करना चाहिए लिया कि आपने कार खरीदने के लिए एसआईपी शुरू की थी और आपका लक्ष्‍य 8 लाख रुपये जुटाने का था. अगर आप के एसआईपी की वैल्‍यू 8 लाख के करीब है और कार खरीदने में 4 या 5 महीने बचे हैं तो यह पैसा निकाल सकते हैं. 4 से 5 महीने के लिए कुछ पैसा शॉर्ट टर्म डेट प्‍लान में या बैंक में रख सकते हैं. इससे अगर हाल फिलहाल में बाजार में गिरावट आती भी है तो आपको नुकसान नहीं होगा. आप अपने लक्ष्‍य से पीछे नहीं रह जाएंगे.

एके निगम का कहना है कि यंगर जेनरेशन के पास लंबी अवधि के लिए मौके होते हैं. वहीं एसआईपी सुरक्षित निवेश का आल टाइम फेवरेट जरिया बनता जा रहा है. अगर पैसों की तत्‍काल जरूरत नहं है तो यंग जेनरेशन को एसआईपी जारी रखनी चाहिए. कुछ पैसों की जरूरत आगे पड़ने वाली है तो कुछ रकम इक्विटी से निकालकर डेट में या इमरजेंसी फंड के लिए रख सकते हैं. मल्‍टी एसेट अलोकेशन भी एक बेहतर विकल्‍प निवेशकों को क्या करना चाहिए है. यह कुल निवेश का 20 फीसदी हो सकता है.

लॉर्ज एंड मिडकैप

स्लोडाउन के पीरियड में इक्विटी में कमजोरी आती है, जबकि रिकवरी पीरियड में खससतौर से मिडकैप में तेजी देखने को मिलती है. हालांकि बाजार अच्छा खासा रिकव होने के बाद वोलेटाइल हुआ है. फिर भी लॉर्ज एंड मिडकैप के जरिए निवेशक लॉर्जकैप की तुलना में कुछ बेहतर रिटर्न हासिल कर सकते हैं. असल में ये फंड लॉर्जकैप के अलावा, मिडकैप कंपनियों में भी पैसा लगाते हैं. पोर्टफोलियो में मिडकैप के साथ लॉर्जकैप भी शामिल होने से रिस्क कम होता है.

मिड कैप इक्विटी फंड जोरदार रिटर्न दे सकते हैं, लेकिन उनमें बाजार का जोखिम भी अधिक होता है. ऐसे में अगर निवेशकों में जोखिम अधिक लेने की क्षमता है, वे इस सेग्मेंट को देख सकते हैं. निवेश का निर्णय लेने से पहले अपने वित्तीय लक्ष्यों और जोखिम लेने की क्षमता का आंकलन जरूर करना चाहिए.

(नोट: बीएनपी फिनकैप के निवेशकों को क्या करना चाहिए डायरेक्टर एके निगम से बात चीत पर भी आधारित)

क्या म्यूच्यूअल फंड्स में रोज़ निवेश करना चाहिए?

Should one invest daily in a Mutual Fund?

बचपन से ही हम सब कछुए और खरगोश की कहानी सुनते आये हैं – धीमी, सधी और स्थिर चाल ही जीत दिलाती है| यह नैतिक उक्ति जीवन के हर क्षेत्र में प्रासंगिक और निवेशकों को क्या करना चाहिए सही साबित हुई है, निवेश क्षेत्र में भी| इसलिए SIP निवेशकों में लोकप्रिय हो पाए हैं जिसके अंतर्गत नियमित बचत और निवेश होता रहता है जो लम्बी अवधि में संपत्ति सृजन में सहायक होते हैं|

संपत्ति सृजन हेतु आप कितना निवेश करना चाहते हैं, इस बात पर आपका SIP निवेश किस प्रकार का होगा, साप्ताहिक, मासिक या त्रैमासिक होगा, ये निर्भर है| कुछ फंड्स गृहों ने दैनिक SIP भी आरम्भ लिया है| क्या दैनिक SIP में मासिक SIP की तुलना में अधिक संपत्ति सृजन की संभावना है? चूंकि SIP का उद्देश्य ही लम्बी अवधि के लक्ष्यों की योजना है, अगले १० - १५ वर्ष की अवधि में बने संपत्ति निर्माण में इनका कोई ख़ास फर्क दिखाई नहीं देता, SIP दैनिक हो या मासिक, छोटी अवधि में इनके परिणामों में असर शायद दिखाई दे जाए| दैनिक SIP से आपके लेन - देन कार्यवाही एक दिन के बजाय बीस दिन हो जायेगी जिसका प्रबंधन कभी कभी मुश्किल हो जाता है| अगर आप अब भी “मैं अपना निवेश कैसे करूं”? के अनिश्चय से गुज़र रहे हैं, मासिक SIP आपके लिए अच्छी शुरुआत रहेगी|

रेटिंग: 4.30
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 285