डीमेट अकाउंट क्या है और Demat Account कैसे खुलवाएं हिंदी में

Demat Account In Hindi: अगर आप भी निवेशक बनना चाहते हैं और शेयर बाजार में निवेश और ट्रेडिंग करके पैसे कमाना चाहते हैं तो उसके लिए आपको जरुरत पड़ती है Demat Account की. क्योंकि बिना Demat Account के आप शेयर की लेन – देन और शेयर को Hold नहीं कर सकते हैं.

क्या आप जानते हैं Demat Account क्या है, डीमैट अकाउंट कैसे खुलवाएं, डीमैट अकाउंट कौन खुलवाता है, डीमैट अकाउंट और ट्रेडिंग अकाउंट में क्या अंतर है, डीमैट अकाउंट के फायदे और नुकसान क्या हैं तो आप एक दम सही लेख पर आये हैं.

आज के इस लेख के माध्यम से हम आपको डीमैट अकाउंट के बारे में पूरी जानकरी देने वाले हैं जो कि आपको डीमैट अकाउंट खुलवाने से पहले पता होनी चाहिए. अगर आप भी शेयर बाजार में निवेश करने के बारे में विचार कर रहें हैं तो इस लेख को पूरा अंत तक जरुर पढ़ें.

तो चलिए शुरू करते हैं आज का यह लेख और जानते हैं Demat Account क्या होता है विस्तार से –

Upstox पर फ्री में डीमैट अकाउंट कैसे खोलें? (Step-by-Step guide)

Upstox par free demat account kaise banaye in hindi: अपस्टॉक्स (Upstox) इंडिया का सबसे ज्यादा भरोसेमंद डिस्काउंट ब्रोकर है यह तो आप सभी लोग जानते हैं क्योंकि upstox को रतन टाटा ने fund किया हुआ है। तो अगर डिमैट अकाउंट खोलने की बात आती है तो Upstox (जो कि एक डिस्काउंट ब्रोकर है) का नाम सबसे पहले आता है क्योंकि अपस्टॉक्स पर आप फ्री में अपना डिमैट अकाउंट खोल सकते हैं।

Upstox par Free demat account kaise khole

आज मैं आपको step by step बताऊंगा की Upstox पर फ्री में डिमैट अकाउंट कैसे खोलें? और Upstox में डीमैट खाता खोलने के लिए क्या करना पड़ता है?

तो अगर आप भी अपस्टॉक्स पर फ्री में अपना डिमैट अकाउंट खोलना चाहते हैं तो इस पोस्ट में बताए गए सभी steps को ध्यान से follow करना।

मैं वादा करता हूं इस पोस्ट को पढ़ने के बाद आप आसानी से अपस्टॉक्स पर फ्री में अपना डिमैट अकाउंट खोल पाएंगे।

चलिए सभी स्टेप्स को एक-एक करके जान लेते हैं–

अपस्टॉक्स पर फ्री में डीमैट अकाउंट कैसे खोलें? (Upstox par account kaise banaye in hindi)

अब आपको 24 घंटे इंतजार करना है ( कभी-कभी 3 दिन भी लग जाते हैं लेकिन अक्सर 24 घंटे के अंदर हो जाता है) 24 घंटे बाद आपके ईमेल आईडी पर एक मेल आएगा जिसमें आपका यूजर आईडी और पासवर्ड होगा जिसकी मदद से आप upstox app में login कर पाएंगे और फिर आप किसी भी शेयर को खरीद बेच सकते हैं या ट्रेडिंग कर सकते हैं।

अपस्टॉक्स खाता खोलने के लिए कितना शुल्क लेता है?

अपस्टॉक्स पर अकाउंट खोलने के लिए आपको कोई चार्ज या शुल्क नहीं देना पड़ता है लेकिन जब आप खाता खोल लेते हैं तो आपको ट्रेडिंग करने के लिए कुछ छोटे-मोटे ब्रोकरेज चार्जेस देने पड़ते हैं.

Upstox में डीमैट खाता खोलने में कितना समय लगता है?

एक बार जब आप अपस्टॉक्स पर खाता खोलने के लिए इस पोस्ट में दिए गए सभी स्टेप्स पूरे कर लेते हैं तो 24 घंटे से लेकर 3 दिन का समय लगता है. उसके आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? बाद आपकी upstox login details आपकी मेल पर भेज दी जाती है.

क्या upstox खाता अभी फ्री है?

जी हां अभी 2022 में अपस्टॉक्स पर अकाउंट खोलना बिल्कुल फ्री है.

अपस्टॉक्स में कितना चार्ज होता है?

अपस्टॉक्स पर आपको इंद्राणी या डिलीवरी में शेयर खरीदने पर ₹20 ब्रोकरेज चार्जेस देने पड़ते हैं और इसी तरह शेयर को बेचने पर भी ₹20 ब्रोकरेज शुल्क देना पड़ता है।

आशा करता हूं आपको इस पोस्ट (Upstox par free demat account kaise banaye) में बताए गए सभी steps समझ आ गए होंगे। अगर आपका कोई सवाल है तो नीचे कमेंट बॉक्स में पहुंच सकते हैं और अगर आपको यह पोस्ट (upstox पर फ्री में डिमैट अकाउंट कैसे खोलें) पसंद आई हो तो सोशल मीडिया पर अन्य लोगों के साथ भी जरूर शेयर कीजिए।

डीमैट अकाउंट खोलना क्यों जरूरी है

डीमैट अकाउंट खोलना क्यों जरूरी है

सेबी SEBI के दिशा निर्देश के अनुसार किसी प्राइवेट ब्रोकर या बैंक ब्रोकर के डीमेट खाते को छोड़कर कोई व्यक्ति किसी अन्य तरीके से शेयरों की खरीद और बिक्री नहीं कर सकता इसलिए भी डीमैट अकाउंट जरूरी है अगर आप अपने बचत के पैसों को शेयर बाजार या शेयर बाजार के अन्य विकल्पों में निवेश करना चाहते हैं तो आपके लिए डीमैट खाता खुलवाना अनिवार्य है।

डीमैट अकाउंट क्या है पूर्ण जानकारी

डीमैट खाता पूर्ण रुप से आपके बैंक खाते की तरह ही काम करता है। अब डीमैट खाता पूर्ण रूप से ऑनलाइन हो गया है जैसे बैंक में आपको पासबुक में लेनदेन की समरी मिलती है वैसे ही डीमैट खाता में आपको आपके स्टेटमेंट की प्रविष्टि कराई जा सकती है आप इसे भौतिक रूप से नहीं रख सकते, इसकी सुरक्षा आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? भी इलेक्ट्रॉनिक तरीके से ब्रोकर कंपनियां करती हैं और सरकार की इस पर पूरी नजर रहती है. और बैंक खाते की ही तरह यहां पर भी डेबिट और क्रेडिट होता है!

डिमैट अकाउंट खुलवाने के क्या फायदे है?

डीमैट अकाउंट खुलवाने के क्या फायदे है ?

डीमेट अकाउंट के कई फायदे हैं। अपनी बचत के पैसों को निवेश करके जीवन में अपने सपनों को पूरा करने के लिए और आपके बेहतर भविष्य के लिए आपके पास पैसों को निवेश करने के लिए एक डीमैट अकाउंट जरूर होना चाहिए. डीमेट अकाउंट के जरिए आप स्टॉक, म्यूच्यूअल फंड, गोल्ड, करंसी, इटीएफ आदि भी खरीद सकते हैं आपके पास डीमैट अकाउंट होने से शेयर बाजार में आप ट्रेडिंग और इन्वेस्टमेंट को बहुत ही आसान बना देता है। आप अपने भिन्न-भिन्न शेयरों में किए गए निवेश के पोर्टफोलियो को नियमित रूप से चेक कर सकते हैं। इसका स्टेटस देख सकते हैं। डिमैट अकाउंट होने से शेयरों की खरीद बिक्री इटीएफ, म्यूचल फंड एसआईपी और अन्य भी कार्य आसान हो जाते हैं

डीमैट अकाउंट कैसे काम करता है?

भारत के 2 प्रमुख एक्सचेंज हैं NSE और BSE यहां पर हजारों की संख्या में शेयर लिस्टेड होते हैं जिनकी हम खरीदारी और बिकवाली करते हैं जब आप शेयर बाजार में डीमैट अकाउंट के जरिए शेयरों की खरीदारी करते हैं तब ब्रोकर आपके डीमैट खाते में शेयर को क्रेडिट कर देता है और यह आपको पोर्टफोलियो अथवा होल्डिंग के विवरण में दिखने लगता है यदि आप इंटरनेट आधारित ऑनलाइन डिमैट अकाउंट के साथ व्यापार करते हैं. तो आप अपनी होल्डिंग का विवरण ऑनलाइन ही देख सकते हैं ब्रोकर की ऐप में इस प्रकार एक डीमैट अकाउंट में शेयर की खरीदारी होती है।

डीमैट अकाउंट की सेफ़्टी

जब आपको आपके के खरीदे हुए शेयर को बेचना होता है तब आप अपने ब्रोकर को डिलीवरी निर्देश देते हैं जिसमें आपको आपके बिके हुए शेयर का विवरण भरना होता है. अब तो डिपॉजिटरीज ने T-pin अनिवार्य कर दिया है ताकि ब्रोकर आपके खाते में पड़े शेयर या पैसों का गलत उपयोग ना कर सके यह ऑनलाइन प्रोसेस होती है। लेकिन अब यह बहुत आसान हो गया है इसके बाद आपके शेयर डेबिट हो जाते हैं और बिके हुए शेयरों का भुगतान ब्रोकर आपको दो-तीन दिन के सेटलमेंट के बाद कर देता है अगर आप यह प्रक्रिया ब्रोकर के ऐप से कर रहे हैं तो आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? आपको तुरंत ही आपकी क्रेडिट और डेबिट धनराशि दिखने लगती है

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए जरूरी दस्तावेज

डीमेट अकाउंट खोलने के लिए सबसे पहले तो आपके पास पैन कार्ड एड्रेस प्रूफ के लिए आधार कार्ड वोटर आईडी कार्ड या ड्राइविंग लाइसेंस होना चाहिए इसके अलावा फ्यूचर ऑप्शन और करेंसी ट्रेडिंग के लिए आपके बैंक खाते का 6 महीने का बैंक स्टेटमेंट भी देना होता है। डीमेट अकाउंट खोलने के लिए आप सेबी रजिस्टर्ड ब्रोकर या सब ब्रोकर से संपर्क कर सकते है।

डीमैट अकाउंट कैसे खोलें

Demat account ऑनलाइन तरीके से कुछ ही समय में खुल जाता है इसके लिए आपको किसी ऑफिस या बैंक के चक्कर लगाने नहीं पड़ेंगे अब डिमैट अकाउंट घर बैठे मोबाइल से ही खोला जा सकता है बस आपके आधार नंबर पर मोबाइल अपडेट होना चाहिए और पैन कार्ड बैंक स्टेटमेंट का होना जरूरी है

डीमैट अकाउंट खोलने आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? से पहले निवेशकों को क्या सावधानियां बरतनी चाहिए

यदि आप डिमैट अकाउंट खोलने जा रहे हैं तो सबसे पहले आप ब्रोकरेज और वार्षिक रखरखाव शुल्क के बारे में कंपनी की सारी सूचना और शर्तें ध्यान से पढ़नी चाहिए और कई कंपनियों मैं तुलना करके डीमेट अकाउंट खोलना चाहिए

अगर आप शेयर बाजार में रुचि रखते हैं और अपना डीमैट खाता भारत के नंबर 1 ब्रोकर के साथ खोलना चाहते हैं तो नीचे दिए गए लिंक से आप अपना खाता खोल सकते हैं।

डीमैट अकाउंट क्या होता है? शेयरों की खरीद और बिक्री कैसे की जाती है?

शेयर मार्केट में निवेश शुरू करने के लिए आपको तीन अकाउंट (खातों) की जरूरत होती है. ये तीन अकाउंट हैं डीमैट अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और बैंक अकाउंट.

डीमैट अकाउंट क्या होता है? शेयरों की खरीद और बिक्री कैसे की जाती है?

शेयर मार्केट में निवेश शुरू करने के लिए आपको तीन अकाउंट (खातों) की जरूरत होती है. ये तीन अकाउंट हैं डीमैट अकाउंट, ट्रेडिंग अकाउंट और बैंक अकाउंट. हर अकाउंट का अपना एक अलग काम होता है, लेकिन ट्रांजैक्शन (लेन-देन) को पूरा करने के लिए तीनों एक-दूसरे पर निर्भर होते हैं. शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के लिए ये तीन अकाउंट होने चाहिए.

डीमैट अकाउंट क्या है?

डीमैट अकाउंट एक बैंक अकाउंट के समान है. जैसे एक सेविंग अकाउंट (बचत खाता) पैसे को चोरी होने और किसी भी गड़बड़ी से बचाता है, वैसे ही एक डीमैट अकाउंट निवेशकों के लिए भी यही काम करता है. डीमैट अकाउंट या डीमैटरियलाइज्ड अकाउंट इलेक्ट्रॉनिक रूप में शेयरों और सिक्योरिटीज को रखने की सुविधा देता है. ये अकाउंट फिजिकल शेयरों को डीमैट रूप में स्टोर (संग्रहित) करते हैं. फिजिकल शेयरों को इलेक्ट्रॉनिक रूप में परिवर्तित करने की प्रक्रिया (प्रोसेस) को डिमैटेरियलाइजेशन कहा जाता है. जब भी ट्रेडिंग की जाती है तो इन शेयरों को डीमैट अकाउंट में क्रेडिट या डेबिट किया जाता है.

डीमैट अकाउंट के प्रकार (टाइप)

डीमैट अकाउंट खोलते समय निवेशकों को अपने प्रोफाइल के मुताबिक डीमैट अकाउंट का चुनाव काफी सावधानी से करना चाहिए. कोई भी भारतीय मिनटों में ऑनलाइन डीमैट अकाउंट खोल सकता है. निवेशक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) के साथ डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं. 5पैसा https://bit.ly/3RreGqO एक ऐसा ही प्लेटफॉर्म है जहां आप आसानी से अपना डीमैट अकाउंट खोल सकते हैं और ट्रेडिंग शुरू कर सकते हैं. डीमैट अकाउंट चार तरह के होते हैं.

1)- रेगुलर डीमैट अकाउंट

एक रेगुलर डीमैट अकाउंट भारतीय निवासी निवेशकों के लिए होता है जो केवल शेयर खरीदना और बेचना चाहते हैं और सिक्योरिटीज को जमा (डिपॉजिट) करना चाहते हैं. जब आप शेयर बेचते हैं तो शेयर अकाउंट से डेबिट हो जाते हैं. इसी तरह जब आप शेयर खरीदते हैं तो वो आपके अकाउंट में क्रेडिट हो जाते हैं. यदि आप फ्यूचर एंड ऑप्शन में ट्रेडिंग कर रहे हैं तो डीमैट अकाउंट की कोई जरूरत नहीं है क्योंकि इस तरह की डील के लिए स्टोरेज की कोई जरूरत नहीं होती है.

2)- बेसिक सर्विस डीमैट अकाउंट

यह एक नए तरह का डीमैट अकाउंट है, जिसे बाजार नियामक (मार्केट रेगुलेटर) सेबी ने पेश किया है. छोटे निवेशकों को ध्यान में रखते हुए यह अकाउंट शुरू किया गया है. 50,000 रुपये से कम के स्टॉक और बॉन्ड रखने के लिए कोई मेंटेनेंस चार्ज (रखरखाव शुल्क) नहीं देना होगा. 50,000 रुपये से 2 लाख रुपये तक की सिक्योरिटी रखने पर सिर्फ 100 रुपये आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? का चार्ज लगता है.

3)- प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता (Repatriable Demat Account)

प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता NRI (अनिवासी भारतीयों) के लिए है. इसके जरिए वे भारतीय बाजार में निवेश कर सकते हैं और विदेशों में भी पैसा भेज सकते हैं. हालांकि फंड ट्रांसफर करने के लिए डीमैट खाते को NRI (Non-Resident External) खाते से जोड़ा जाना चाहिए.

4)आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? - गैर प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता (Non-repatriable Demat Account)

अनिवासी भारतीयों (NRI) के लिए एक गैर-प्रत्यावर्तनीय डीमैट खाता भी है. हालांकि इस खाते के जरिए विदेश में पैसा ट्रांसफर नहीं आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? किया जा सकता है.

डीमैट अकाउंट के फायदे

डीमैट अकाउंट बिना किसी परेशानी के शेयरों को तेजी से ट्रांसफर करने की सुविधा देता है. शेयर या सिक्योरिटीज सर्टिफिकेट एक डीमैट अकाउंट में इलेक्ट्रॉनिक रूप से रखे जाते हैं. ऐसे में इनके चोरी, जालसाजी और नुकसान की संभावना बहुत कम होती है. ट्रेडिंग एक्टिविटी को आसानी से ट्रैक किया जा सकता है. डीमैट खातों को कभी भी और कहीं भी एक्सेस किया जा सकता है. बोनस स्टॉक, राइट्स इश्यू, स्प्लिट शेयर अपने आप अकाउंट में जमा हो जाते हैं.

डीमैट अकाउंट कैसे खोलें

शेयर मार्केट में ट्रेडिंग के लिए डीमैट खाता खोलना अनिवार्य है. आप किसी वित्तीय संस्थान या ब्रोकर के माध्यम से डीमैट खाता (अकाउंट) खोल सकते हैं. सबसे पहले आपको इसके लिए एक डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट (DP) चुनना होगा. यह एक वित्तीय संस्थान, ऑथराइज बैंक या ब्रोकर कोई भी हो सकता है. आप उनके साथ एक डीमैट खाता खोल सकते हैं. डिपॉजिटरी पार्टिसिपेंट को ब्रोकरेज चार्ज, सालाना चार्ज और लीवरेज के आधार पर चुना जाना चाहिए. DP सिलेक्ट करने के बाद आपको खाता खोलने का फॉर्म, KYC फॉर्म भरना होगा और फिर जमा करना होगा. इसके साथ आपको कुछ डॉक्युमेंट भी देने होंगे.

इनमें पैन कार्ड, रेजिडेंस प्रूफ, आईडी प्रूफ और पासपोर्ट साइज फोटो शामिल हैं. वेरिफिकेशन प्रोसेस (सत्यापन प्रक्रिया) के लिए ओरिजनल कॉपी (मूल प्रति) अपने पास रखें. इसके अलावा आपको बैंक डिटेल देने के लिए एक कैंसिल चेक (रद्द चेक) जमा करना होगा. इसके बाद आपको एग्रीमेंट साइन करना होगा जिसमें रूल और रेगुलेशन के साथ-साथ आपके अधिकारों के बारे में सभी जानकारी होगी. आपको रूल और रेगुलेशन (नियमों और विनियमों) को ध्यान से पढ़ना चाहिए. आजकल कई प्लेटफॉर्म ऑनलाइन डीमैट खाता खोलने की सुविधा देते हैं. अपने डीमैट की सरल प्रक्रिया को पूरा करने के बाद आप अपना डीमैट खाता खोल सकते हैं.

आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए?

spot_img

क्या आप जानते है की डीमैट अकाउंट क्या है? अगर आप नहीं जानते है तो आज में इसके बारे में पूरे डिटेल में बताने वाला हु। डीमैट अकाउंट कैसे खोल सकते है? और इसमें बैलेंस रखना सेफ है या नहीं? और इसके क्या फायदे है?

डीमैट अकाउंट क्या है?

Table of Contents

डीमैट अकाउंट कैसे खोले?

डीमैट अकाउंट शेयर मार्केट का शेयर खरीदने और बेचने के लिए इस्तेमाल किया जाता है। जैसे आप अपने बैंक अकाउंट में अपने पैसे रखते है उसी तरह शेयर मार्केट में पैसे इन्वेस्ट करके डीमैट अकाउंट में शेयर रखा जाता है।

आपको तो पता ही होगा की पुराने समय आपको डीमैट अकाउंट क्यों खोलना चाहिए? में जब भी आप कोई शेयर खरीदते थे तो कंपनी वाले आपको उससे जुड़े दस्तावेज भेजता था, जिससे ये साबित होता था, की अपने उस कंपनी का शेयर लिया है। वही जब आप कोई शेयर बेच देते थे तो सबसे पहले वो दस्तावेज कंपनी के दफ्तर में जाता था। उसके बाद कंपनी वाले आपके खरीदने के टाइम का भाव और बेचने के टाइम का भाव देख कर उसी के मुताबिक आपको प्रॉफिट देते थे। इस प्रक्रिया में कभी टाइम लग जाता था और ये बहुत जटिल भी होता था। इसलिए पहले लोग शेयर मार्केट में इन्वेस्ट करने से डरते थे।

इसी समस्या को देखते हुए Demat को लाया गया ताकि शेयर मार्केट में सभी इन्वेस्ट कर सके। शेयर को डिजिटल रूप से अकाउंट में रखने को ही ‘demat’ कहते है। Demat का पूरा नाम “dematerialize” है।

डीमैट अकाउंट कैसे खोले?

अगर आप डीमैट अकाउंट खोलना चाहते है तो डीमैट अकाउंट खोलने के दो तरीके है ऑफलाइन और ऑनलाइन । यदि आप ऑफलाइन डीमैट अकाउंट खुलवाने जाते है तो आपको ज्यादा चार्ज देना पड़ जायेगा। बैंक भी आपका डीमैट अकाउंट खोलते है जो आपको ज्यादा चार्ज कर सकते है।

यदि आप ऑनलाइन Demat अकाउंट खुलवाना चाहते है तो आपको बहुत से एसे ऐप और वेबसाइट मिल जायेगी जिसपे आप जाकर खुद से अकाउंट खोल सकते है। ऐप और वेबसाइट जैसे- Grow, upstox, zerodha, Paytm money, motilal Oswal, sher khan, 5paisa, Bajaj brokrage, etc.

डीमैट अकाउंट खोलने के लिए कौन – कौन से दस्तावेज चाहिए

Demat account खुलवाने के लिए ये दस्तावेज जरूर रखे:-

  1. आधार कार्ड (Aadhar card)
  2. पैन कार्ड (PAN card)
  3. बैंक पासबुक (Bank passbook)
  4. कैंसिल चेक (cancelled cheque)
  5. 2 पासपोर्ट साइज फोटो (2 passport size photo)

डीमैट अकाउंट फ्री खुलता है या चार्ज भी लेता है

अकाउंट खुलवाने से पहले बहुत से लोगो का ये सवाल जरूर होता है की डीमैट अकाउंट खोलवाना फ्री है या चार्ज लगता है। में आपको बताना चाहता हु। सभी कंपनी आपको 300 से 700 तक चार्ज करते है।

आपको कोई कंपनिया monthly चार्ज करती है और कोई कंपनी आपको yearly चार्ज करती है। सिर्फ एक ही कंपनी है जो आपको फ्री डीमैट अकाउंट खोलने की सुविधा देती है। उस का नाम – Upstox है। ये ऐप बहुत ही सेफ और सिक्योर है।

डीमैट अकाउंट के फायदे:-

वैसे तो डीमैट अकाउंट के कई सारे फायदे है, पर चलिए जानते है कुछ प्रमुख फायदे:-

  1. इस अकाउंट को आप बिना ब्रोकर के ऑनलाइन भी खोल सकते है।
  2. पहले शेयर बचने पर आपको बहुत दिन बाद प्रॉफिट मिलता था। लेकिन जब से डीमैट अकाउंट आया तब से आप आसानी से शेयर बच सकते है। प्रॉफिट अमाउंट आपके अकाउंट में 24 घंटे में आया जायेगे।
  3. पहले आप सिर्फ समूह में ही शेयर बेच सकते थे। लेकिन अब आप 1 शेयर भी बेच और खरीद सकते है।
  4. लोगों को पहले काफी डर लगा रहता था की आपके बेचे हुए शेयर का काग़ज़ खो गाया तो आपको कोई प्रॉफिट नहीं मिलेगा। डीमैट अकाउंट डिजिटल माध्यम से होता है जो आपके बेचे और खरीदे हुए शेयर को सिक्योर रखता है।
  5. इस अकाउंट की मदत से आप आसानी से शेयर मार्केट इन्वेस्टमेंट कर सकते है अपको कही जाने की जरूरत नहीं पड़ेग।

उम्मीद है आपको मेरी इस आर्टिकल से काफी जानकारी मिली होगी। अगर आपको इस आर्टिकल से कोई भी सवाल है तो आप मुझे कॉमेंट करके पूछ सकते है।

रेटिंग: 4.79
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 704