फ्रांस में टीम योगी के रोड शो को निवेशकों का मिला भरपूर समर्थन

विदेशी निवेशकों को उत्तर प्रदेश में व्यापार करने और व्यापार का विस्तार करने के लिए आमंत्रित करने कई देशों की यात्रा पर गई टीम योगी का पड़ाव सोमवार को फ्रांस में था। डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य और आईटी मंत्री योगेंद्र उपाध्याय के नेतृत्व में उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधिमंडल ने फ्रांस की राजधानी पेरिस में फ्रांस के बड़े औद्योगिक घरानों व उनके प्रतिनिधियों से मुलाकात की और उन्हें उत्तर प्रदेश में निवेश के लिए आमंत्रित किया। फ्रांस की कंपनियों ने भी उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ द्वारा दिए गए संदेश पर खुशी जताते हुए प्रदेश में निवेश के जरिए व्यापारिक संबंधों को मजबूती देने पर सहमित जताई। फ्रांस की एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज कंपनियां उत्तर प्रदेश में खाद्य प्रसंस्करण, कृषि, डेयरी, नवीनीकरण ऊर्जा, रक्षा और जल यातायात के क्षेत्र में निवेश के लिए इच्छुक नजर आईं। उल्लेखनीय है कि सीएम योगी ने प्रदेश को आगामी 5 वर्ष में वन ट्रिलियन अर्थव्यवस्था तक ले जाने का जो प्रण लिया है उसके तहत आगामी 10 से 12 फरवरी के बीच लखनऊ में होने वाली ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के माध्यम से 10 लाख करोड़ का निवेश लाने का लक्ष्य रखा गया है। इस लक्ष्य को ध्यान में रखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने अपने मंत्रियों और वरिष्ठ अधिकारियों की 8 टीमों को 18 देशों के भ्रमण पर भेजा है। विदेशों में टीम योगी के रोड शो व ट्रेड शो को निवेशकों का अच्छा रिस्पॉन्स मिला है और हजारों करोड़ के निवेश प्रस्ताव प्रदेश सरकार का उत्साह बढ़ाने वाले रहे हैं।

फ्रांस की राजधानी पेरिस में हुए रोड शो के अवसर पर डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य एवं आईटी मंत्री योगेंद्र उपाध्याय समेत उत्तर प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों की टीम ने फ्रांस की कंपनियों के प्रतिनिधियों से मुलाकात की और उन्होंने ग्लोबल इन्वेस्टर्स समिट के लिए आमंत्रित किया। बिजनेस फ्रांस के एशिया व पैसिफिक एरिया के कोऑर्डिनेटर जीन फ्रैंकोइस एंब्रोसियो ने डिप्टी सीएम केशव प्रसाद मौर्य के साथ मुलाकात के दौरान खाद्य प्रसंस्करण, कृषि और डेयरी के क्षेत्र में साझादारी के जरिए इंडो फ्रेंच द्विपक्षीय संबंधों को और मजबूत बनाने का आशय जाहिर किया। उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधिमंडल ने इंटरनेशनल कमीशन ऑफ कंफेडरेशन ऑफ एसएमई (सीपीएमई) के प्रमुख एटिने पोइरोट बोर्डिन से भी मुलाकात की और रीन्यूएबल एनर्जी, डिफेंस और वॉटर ट्रांसपोर्टेशन जैसे क्षेत्रों में एमएसएमई के अंतर्गत उद्योग लगाने के लिए आंमंत्रित किया। एयर लिक्विड ग्रुप के डायरेक्टर मैक्सिम लैंबर्ट एवं रिस्क मैनेजमेंट वाइस प्रेसीडेंट बरट्रांड मोनोई ने प्रदेश में ग्रीन हाइड्रोजन के क्षेत्र में निवेश की इच्छा जाहिर की और उत्तर प्रदेश में अपने बिजनेस के विस्तार का भी इरादा जताया। थॉमस कंप्यूटिंग के सीईओ स्टीफन फ्रांसिस और वाइस प्रेसीडेंट इंटरनेशनल सेल्स पीयरे क्रासोनवस्की ने आईटी से संबंधित लैपटॉप और टैबलेट असेंबलिंग व वितरण के क्षेत्र में निवेश पर उत्सुकता जताई। एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज ईडीएफ रिन्यूएबल्स एंड टोटल एरेन के कंट्री हेड (भारत) से मुलाकात के दौरान उन्हें जीआईएस 2023 म सम्मिलित होने के साथ भारत मे रिन्यूएबल एनर्जी सेक्टर में निवेश के लिए आमंत्रित किया गया। वहीं प्रतिनिधिमंडल ने पार्टेक्स एनवी से डॉ. गुंजन भारद्वाज से मुलाकात की और ग्रुप को यूपीजीआईएस 2023 में आमंत्रित किया। पार्टेक्स एनवी ने हेल्थकेयर सिस्टम में एआई की शक्ति का उपयोग करने के लिए वाराणसी में अमृत- एक रोगी डेटा एक्सचेंज स्थापित करने के लिए 1000 करोड़ के निवेश के इंटेंट पर हस्ताक्षर किए

उधर, जलशक्ति मंत्री स्वतंत्रदेव सिंह के नेतृत्व में सिंगापुर पहुंचे प्रतिनिधिमंडल का रोड शो भी बेहद सफल रहा। रोड शो के दौरान उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधिमंडल से सिंगापुर की बिजनेस कम्युनिटी ने निवेश के अवसरों और सरकार द्वारा मिल रहे इंसेटिव्स पर चर्चा की। प्रतिनिधिमंडल इंस्टीट्यूट ऑफ टेक्निकल एजुकेशन (आईटीई) गया। यहां विभिन्न क्षेत्रों में जिनमें सिंगापुर और उत्तर प्रदेश के बीच भागीदारी गतिविधियां हो सकती हैं, उन पर चर्चा की गई। उत्तर प्रदेश के प्रतिनिधिमंडल को सिंगापुर में काफी कुछ सीखने को भी मिला। यहां सस्टेनेबिलिटी एंड द एनवायर्नमेंट मिनिस्टर ग्रेस फू हाई येन से मुलाकात के दौरान प्रतिनिधिमंडल को सिंगापुर के लोगों में स्वअनुशासन (सेल्फ डिसिप्लिन) के बारे में जानकारी दी गई। उन्होंने बताया कि सिंगापुर बहुत छोटा देश है। उसके पास पानी और भूमि के बेहद सीमित स्रोत हैं। इसलिए वहां के लोग हाईजीन एवं साफ-सफाई पर बेहद खास ध्यान देते हैं। यह एकमात्र रास्ता है जो निवेशकों को सिंगापुर आने और निवेश के लिए प्रोत्साहित करता है। उन्होंने बताया कि सिंगापुर में पार्किंग, ट्रैफिक जैसे नियमों को मजबूत करने के लिए टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज गया है। यहां प्रत्येक कार में चिप लगे हैं और अगर यह सेंट्रल बिजनेस एरिया में जाम की वजह बनती है तो स्वतः ही अथॉरिटी को पता चल जाता है और उनसे सरचार्ज वसूला जाता है।

टीम योगी के यह विदेशी रोड शो 9 दिसंबर से शुरू हुए थे। 9 दिसंबर को विधानसभा अध्यक्ष सतीश महाना और पशुपालन मंत्री धरमपाल सिंह के नेतृत्व में वरिष्ठ अधिकारियों का प्रतिनिधिमंडल कनाडा में रोड शो एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज व वन टू वन बिजनेस मीटिंग के लिए पहुंचा था। यहां प्रतिनिधिमंडल को हजारों करोड़ के निवेश प्रस्ताव मिले और कई एमओयू भी साइन हुए। इसी तारीख को औद्योगिक विकास मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी और पीडब्ल्यूडी मंत्री जितिन प्रसाद भी जर्मनी पहुंचे थे, जबकि डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक और मत्स्य पालन मंत्री संजय निषाद ने मेक्सिको में रोड शो किया था। वहीं, वित्त मंत्री सुरेश खन्ना और पूर्व मंत्री सिद्धार्थनाथ सिंह के नेतृत्व वाले प्रतिनिधिमंडल ने यूएसए व यूके का दौरा शुरू किया था। 12 दिसंबर को अबुधाबी, कनाडा, दक्षिण कोरिया, बेल्जियम और ब्राजील में रोड शो का आयोजन किया गया जो बेहद सफल रहा। एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज 13 को यूएई, ऑस्ट्रेलिया, 14 को कनाडा, जापान, स्वीडन, अर्जेंटीना में तो 15 को यूएसए व यूके, 16 को यूएसए नीदरलैंड्स, सिंगापुर में रोड शो का आयोजन हुआ। 19 को फ्रांस के साथ विदेशी दौरों का यह आयोजन समाप्त होना है।

अंबेडकर जयंती को समरसता दिवस के रूप में मनाएगी उप्र भाजपा

अंबेडकर जयंती को समरसता दिवस के रूप में मनाएगी उप्र भाजपा

प्रदेश भाजपा के महासचिव गोविंद नारायण शुक्ला ने कहा कि 13 अप्रैल को पार्टी के अनुसूचित जाति मोर्चा के पदाधिकारी और कार्यकर्ता अंबेडकर की प्रतिमा पर दीप प्रज्जवलित कर दीपोत्सव कार्यक्रम का आयोजन करेंगे। इसके बाद 14 अप्रैल को डॉ.अंबेडकर को श्रद्धांजलि देने के लिए राज्य के लगभग 1.6 लाख बूथों पर पार्टी कार्यकर्ता इकट्ठे होंगे।

इस कार्यक्रम में पार्टी के सांसद, विधायक और मंत्री भी शामिल होंगे। पार्टी के पदाधिकारी विभिन्न चौराहों और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर भारतीय संविधान के जनक डॉ.अंबेडकर की प्रतिमाओं पर माल्यार्पण करेंगे।

हमारे टेलीग्राम ग्रुप को ज्‍वाइन करने के लि‍ये यहां क्‍लि‍क करें, साथ ही लेटेस्‍ट हि‍न्‍दी खबर और वाराणसी से जुड़ी जानकारी के लि‍ये हमारा ऐप डाउनलोड करने के लि‍ये यहां क्लिक करें।

जागरूक बने रहे तो जरूर मिलेगा इंसाफ

जागरूक बने रहे तो जरूर मिलेगा इंसाफ

सचमुच आज का युग उपभोक्ता का युग है, जिसमें ग्राहक यानि उपभोक्ता राजा जैसी हैसियत में है, जबकि उत्पादक उसके आगे एक सेवादार हो गया है और उसे यदि अपना उत्पाद बेचना है तो हर तरह से उपभोक्ता की पसंद-नापसंद, जरूरत व उसकी इच्छाओं का ख्याल रखना होगा। देश में उपभोक्ता आंदोलन को गति देने व उपभोक्ताओं के मामलों को उपभोक्ता अदालतों में उठाकर पीडि़त उपभोक्ताओं को न्याय दिलाने की मुहिम ही 'जागो ग्राहक जागो' नारे को सफल बना सकती है। इस मुहिम के तहत ही उपभोक्ता सुरक्षा के अधिकार, उपभोक्ता को सूचना प्राप्त करने का अधिकार, चुनाव करने का अधिकार व सुनवाई का अधिकार मिल पाए हैं। इसमें उपभोक्ता शिक्षा का अधिकार, क्षति प्राप्त करने का अधिकार, स्वच्छ वातावरण का अधिकार व मूलभूत आवश्यकताएं जैसे भोजन, वस्त्र और आवास प्राप्त करने का अधिकार भी निहित किये गए हैं।

स्वयं पर ही जिम्मेदारी

उपभोक्ता संरक्षण कानून से संबंधित महत्वपूर्ण तथ्यों पर गौर करें तो हम कह सकते हैं कि उपभोक्ता संरक्षण कानून को किसी भी शासकीय पक्ष में तैयार नहीं किया बल्कि यह पूरी तरह से उपभोक्ताओ के हितों को ध्यान में रखकर तैयार किया गया है। जिसका मसौदा सबसे पहले अखिल भारतीय ग्राहक पंचायत ने तैयार किया था। आज ग्राहक जमाखोरी, कालाबाजारी, मिलावट, बिना मानक की वस्तुओं की बिक्री, अधिक दाम, गारन्टी के बाद सर्विस नहीं देना, हर जगह ठगी, कम नाप-तौल इत्यादि संकटों से घिरा हुआ है। ग्राहक संरक्षण के लिए विभिन्न कानून भी बने हैं, फिर भी ग्राहक का शोषण व उत्पीड़न अभी भी जारी है। जमाखोरी, कालाबाजारी करने वाले, मिलावटखोर आदि पर लगाम लगाना आज सबसे बड़ी चुनौती है। ग्राहक चूंकि संगठित नहीं हैं इसलिए वह प्रायः हर जगह ठगा जाता है। ग्राहक आन्दोलन की शुरुआत यहीं से होती है। ग्राहक को जागना होगा व स्वयं का संरक्षण करना होगा।

शिकायत के आधार

कोई व्यक्ति जब अपने उपयोग के लिये सामान अथवा सेवाएं खरीदता है व बदले में मूल्य चुकाता है या चुकाने का वायदा करता है तब वह उपभोक्ता होने की श्रेणी में आता है। क्रेता की अनुमति से ऐसे सामान या सेवाओं का प्रयोग करने वाला व्यक्ति भी उपभोक्ता है। यानि प्रत्येक व्यक्ति किसी न किसी रूप में उपभोक्ता है। किसी व्यापारी या सेवा प्रदाता द्वारा अनुचित प्रतिबंधात्मक पद्धति के प्रयोग करने से यदि ग्राहक को कोई क्षति हुई है अथवा खरीदे गये सामान में यदि कोई खराबी है या फिर किराये पर ली गई व उपभोग की गई सेवाओं में कमी पाई गई है या फिर विक्रेता ने आपसे प्रदर्शित मूल्य अथवा लागू कानून द्वारा अथवा इसके मूल्य से अधिक मूल्य लिया है तो ग्राहक न्याय के लिए उपभोक्ता आयोग जा सकता है। इसके अलावा यदि किसी कानून का उल्लंघन करते हुये जीवन तथा सुरक्षा के लिये जोखिम पैदा करने वाला सामान जनता को बेचा जा रहा है तो उसकी भी शिकायत दर्ज की जा सकती है।

शिकायत दर्ज करने का क्षेत्राधिकार

स्वयं उपभोक्ता या कोई स्वैच्छिक उपभोक्ता संगठन जो समिति पंजीकरण अधिनियम 1860 अथवा कंपनी अधिनियम 1951 या फिर फिलहाल लागू किसी अन्य विधि के अधीन पंजीकृत है, शिकायत दर्ज कर सकता है। इसके अलावा केन्द्र सरकार या राज्य सरकार अथवा संघ क्षेत्र में भी शिकायत दर्ज कराई जा सकती है। शिकायत कहां की जाये, यह बात वस्तु व सेवाओं की लागत अथवा मांगी गई क्षतिपूर्ति पर निर्भर करती है। अगर यह राशि 50 लाख रुपये से कम है तो जिला उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग में शिकायत करें। यदि यह राशि 50 लाख रुपये से अधिक लेकिन 2 करोड़ रुपये से कम है तो राज्य आयोग के समक्ष और यदि 2 करोड़ रुपये से अधिक है तो राष्ट्रीय आयोग के समक्ष शिकायत दर्ज करा सकते हैं।

प्रतिवादी का विवरण

उपभोक्ता द्वारा शिकायत सादे कागज पर की जा सकती है। शिकायत में उपभोक्ता तथा विपक्षी पार्टी के नाम का विवरण तथा पता, शिकायत से संबंधित तथ्य एवं यह कब और कहां हुआ आदि का विवरण, शिकायत में उल्लिखित आरोपों के समर्थन में दस्तावेज व साथ ही शिकायत के समर्थन में शपथ पत्र प्रस्तुत करना चाहिए। उपभोक्ताओं को प्रदाय सामान से खराबियां एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज हटाना, सामान को बदलना, चुकाये गये मूल्य को वापस देने के अलावा हानि व मानसिक, आर्थिक संताप के एक सफल विदेशी मुद्रा व्यापारी बनने का राज लिये क्षतिपूर्ति की राहत उपभोक्ता आयोग से मिल सकती है।

-लेखक राज्य उपभोक्ता विवाद प्रतितोष आयोग के वरिष्ठ अधिवक्ता हैं।

रेटिंग: 4.57
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 856