• इसका प्रीमियम वर्जन Pininfarina PF40 Electric Bike टॉप रेंज 13800 यूरो में मिलेगा, जो हमारी करेंसी के हिसाब से 12 लाख रुपये से ज्यादा होगा।

drumstick_tea

क्रिप्टोकरेंसीज को बड़ा खतरा मानता है RBI, दोबारा उठाई बैन करने की मांग

क्रिप्टोकरेंसीज को बड़ा खतरा मानता है RBI, दोबारा उठाई बैन करने की मांग

क्रिप्टोकरेंसीज को बड़ा खतरा मानता है RBI, दोबारा उठाई बैन करने की मांग Letest Hindi News

पिछले कुछ महीनों से क्रिप्टो मार्केट में गिरावट से जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान इनवेस्टर्स को बड़ा नुकसान हुआ है। रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया (RBI) ने चेतावनी दी है कि अगले वित्तीय संकट प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसीज से आएगा। RBI ने एक बार भी क्रिप्टोकरेंसीज पर बैन लगाने की मांग की है। RBI के गवर्नर Shaktikanta Das ने बुधवार को कहा कि क्रिप्टोकरेंसीज के साथ कोई वैल्यू नहीं जुड़ी और यह मैक्रो इकोनॉमिक और वित्तीय स्थिरता के लिए रिस्क है।

इससे पहले भी RBI की ओर से क्रिप्टो पर बैन लगाने की मांग की जा चुकी है। इस महीने देश में डिजिटल रुपये का रिटेल ट्रायल शुरू किया गया है। यह ट्रायल चार बड़े शहरों – दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और भुवनेश्वर में होगा। इसके पूरा होने के बाद यह तय होगा कि क्या सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) प्रति दिन की खरीदारियों के लिए एक एफिशिएंट जरिया है या नहीं। इस ट्रायल में हिस्सा लेने वाले बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, ICICI बैंक, यस बैंक और IDFC फर्स्ट बैंक शामिल हैं। इससे ट्रांजैक्शंस की कॉस्ट में कमी होने की संभावना है। दुनिया के उन चुनिंदा सेंट्रल बैंकों में RBI शामिल है जिन्होंने CBDC प्रोजेक्ट शुरू किया है।

महिंद्रा ला रही 60kg की सबसे हल्की इलेक्ट्रिक बाइक, जानिए रेट्रो लुक वाली इस E-Bike की खासियत

महिंद्रा एण्ड महिंद्रा औटोमोबिल सेक्टर का जाना माना नाम है। अपनी दमदार कार्स और हेवी वाहनों के लिए तो हम जानते ही हैं लेकिन अब Pininfarina Eysing PF40 के नाम से यूरोप की सड़कों के लिए महिंद्रा एक इलेक्ट्रिक बाइक भी लॉन्च करने वाले हैं। इस बाइक का वजन कुल जमा 60kg है।

इस बाइक की लुक को लेकर बहुत चर्चा हो रही है। रेट्रो लुक में ये इलेक्ट्रिक बाइक 60kg वजन होते हुए भी 110 किलो तक वजन उठाकर 45 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ्तार से दौड़ सकती है। इसकी सबसे बड़ी खासियत इसका लुक और स्लीक वेट है। इतनी हल्की बाइक मार्केट में बहुत ही रेयर मिलती हैं।

कर सकते हैं मोपेड की तरह इस्तेमाल

क्रिप्टोकरेंसीज को बड़ा खतरा मानता है RBI, दोबारा उठाई बैन करने की मांग

पिछले कुछ महीनों से क्रिप्टो मार्केट में गिरावट से इनवेस्टर्स को बड़ा नुकसान हुआ है। रिजर्व बैंक ऑफ जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान इंडिया (RBI) ने चेतावनी दी है कि अगले वित्तीय संकट प्राइवेट क्रिप्टोकरेंसीज से आएगा। RBI ने एक बार भी क्रिप्टोकरेंसीज पर बैन लगाने की मांग की है। RBI के गवर्नर Shaktikanta Das ने बुधवार को कहा कि क्रिप्टोकरेंसीज के साथ कोई वैल्यू नहीं जुड़ी और यह मैक्रो इकोनॉमिक और वित्तीय स्थिरता के लिए रिस्क है।

इससे पहले भी RBI की ओर से क्रिप्टो पर बैन लगाने की मांग की जा चुकी है। इस महीने देश में डिजिटल रुपये का रिटेल ट्रायल शुरू किया गया है। यह ट्रायल चार बड़े शहरों जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान – दिल्ली, मुंबई, बेंगलुरु और भुवनेश्वर में होगा। इसके पूरा होने के बाद यह तय होगा कि क्या सेंट्रल बैंक डिजिटल करेंसी (CBDC) प्रति दिन की खरीदारियों के लिए एक एफिशिएंट जरिया है या नहीं। इस ट्रायल में हिस्सा लेने वाले बैंकों में स्टेट बैंक ऑफ इंडिया, ICICI बैंक, यस बैंक और IDFC फर्स्ट बैंक शामिल हैं। इससे ट्रांजैक्शंस की कॉस्ट में कमी होने की संभावना है। दुनिया के उन चुनिंदा सेंट्रल बैंकों में RBI शामिल है जिन्होंने CBDC प्रोजेक्ट शुरू किया है।

अगला वित्तीय संकट क्रिप्टोकरेंसी से आएगा: आरबीआई गवर्नर सख्त रुख बनाए हुए हैं

भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई) के गवर्नर शक्तिकांत दास हमेशा क्रिप्टोकरंसीज के मुखर विरोधी रहे हैं, उन्होंने सार्वजनिक रूप से भारत की वित्तीय स्थिरता के लिए कई मौकों पर होने वाले खतरे के बारे में बात की। केंद्रीय बैंक के प्रमुख ने क्रिप्टो क्षेत्र के खिलाफ सख्त रुख बनाए रखना जारी रखा है, यह कहते हुए कि यदि निजी क्रिप्टोकरंसीज को बढ़ने दिया जाता है, तो यह अगले बड़े वित्तीय संकट का कारण होगा। यह RBI द्वारा अपनी केंद्रीय बैंक डिजिटल मुद्रा (CBDC) – e₹ पेश करने के कुछ हफ़्तों बाद आया है।

बीएफएसआई इनसाइट समिट 2022 में बोलते हुए, दास ने कहा कि क्रिप्टोकरेंसी का कोई अंतर्निहित मूल्य नहीं है, और यह भारत की वित्तीय स्थिरता के लिए “भारी निहित जोखिम” पैदा करता है।

ई₹ के फायदे

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, RBI ने हाल ही में CBDC के दो प्रारूप पेश किए हैं – जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान e₹-W (थोक क्षेत्र के लिए) और e₹-R (खुदरा क्षेत्र के लिए)। क्रिप्टोकरेंसी जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान के विपरीत, डिजिटल रुपये का मूल्य फिएट रुपये के समान होगा और राष्ट्रीय मुद्रा के संबंध में समय पर अवमूल्यन नहीं होगा।

ई₹ के फायदों के बारे में पूछे जाने पर, दास ने कहा कि डिजिटल रुपये से नोटों की छपाई की लागत और ऐसे अन्य तत्वों को समाप्त करके रसद को आसान बनाने में मदद मिलेगी। दास ने यह भी कहा कि डिजिटल.

यह भी पढ़ें: डिजिटल रुपया: खुदरा ग्राहक सीबीडीसी से कैसे लाभ उठा सकते हैं

RBI प्रमुख ने कहा कि डिजिटल रुपया एक स्वचालित स्वीप-इन और जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान स्वीप-आउट सुविधा भी प्रदान करता है, जिससे उपयोगकर्ता आसानी से ई₹ निकाल सकते हैं और जरूरत पड़ने पर इसे आपके बैंक खाते में वापस भी कर सकते हैं।

सहजन की पत्तियों के फायदे: डायबिटीज में सहजन की पत्तियों की चाय | Drumstick leaves tea benefits in hindi

drumstick leaves tea benefits in diabetes- India TV Hindi

Image Source : FREEPIK
drumstick leaves tea benefits in diabetes

सहजन की पत्तियों के फायदे: क्या आपको डायबिटीज है? क्या आप डायबिटीज में अक्सर उन चीजों को खोजते रहते हैं जो कि शुगर कम करने में मदद करे तो, आपके लिए सहजन की पत्तियां कारगर तरीके से काम कर सकती हैं। जी हां, डायबिटीज में सहजन की पत्तियों का सेवन काफी फायदेमंद माना जाता है। दरअसल, सहजन की पत्तियों (Drumstick जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान leaves) में कुछ बायोएक्टिव कंपाउंड्स होते हैं जो कि शुगर कम करने और इंसुलिन के प्रोडक्शन को बढ़ाने में मदद करते हैं। इसलिए शुगर के जानिए क्रिप्टोकरेंसी के फायदे और नुकसान मरीजों को कई बार सहजन की पत्तियों से बनी चाय (Drumstick leaves tea) ट्राई करनी चाहिए। इसके अलावा भी डायबिटीज में इस चाय को पीने के कई फायदे हैं। कैसे, जानते हैं।

डायबिटीज में सहजन की पत्तियों की चाय के फायदे-Drumstick leaves tea benefits in hindi

डायबिटीज में सहजन की पत्तियों से बनी चाय इंसुलिन के प्रोडक्शन को बढ़ावा देती है। इससे शुगर मेटाबोलिज्म तेज होता है और आप जो भी खाते हैं उससे निकलने वाला शुगर तेजी से पचता है। इसलिए शुगर पचाने के लिए आपको डायबिटीज में सहजन की पत्तियों की चाय पीनी चाहिए।

डायबिटीज के मरीजों में अक्सर दिमाग से जुड़ी बीमारियों का खतरा ज्यादा रहता है। दरअसल, शुगर नसों को नुकासन पहुंचाती हैं और दिमाग के काम काज को धीमा कर देती हैं। ऐसे में सहजन की पत्तियों से बनी चाय के एंटीऑक्सीडेंट्स दिमाग को तेज करने और ब्रेन सेल्स को हेल्दी रखने में मदद करते हैं।

diabetes

Image Source : FREEPIK

बीपी कंट्रोल करने में मददगार-control high bp

हाई बीपी के मरीजों को अक्सर शुगर की समस्या हो जाती है या फिर शुगर के मरीजों को हाई बीपी की समस्या हो जाती है। ऐसी स्थिति में ब्लड प्रेशर कंट्रोल में सहजन की पत्तियों से बनी चाय ब्लड प्रेशर कंट्रोल करने में भी मदद करती है। दरअसल, इसका क्वेरसेटिन बीपी कम करता है और इसके एंटी-ऑक्सीडेटिव क्षमताओं के कारण, बीपी रोगियों को सूजन से लड़ने में भी मदद मिल सकती है।

सहजन की पत्तियों से चाय बनाने के लिए इन पत्तियों को सूखा लें और इसे पीस कर पाउडर बना कर रख लें। अब चायपत्ती की जगह उबलते पानी में इसे मिलाएं। फिर इसे कप में छान लें। ऊपर से शहद मिलाएं और इसका सेवन करें।

(ये आर्टिकल सामान्य जानकारी के लिए है, किसी भी उपाय को अपनाने से पहले डॉक्टर से परामर्श अवश्य लें)

रेटिंग: 4.97
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 86