अधिकारियों के मुताबिक, परियोजना के लिए सीएसएमटी जंक्शन और डेटा संकलन को फिर से डिजाइन करने पर काम शुरू हो चुका है। 2007 से 2013 के दौरान न्यूयॉर्क शहर के परिवहन विभाग के कमिश्नर के रूप में कार्यरत जेनेट सादिक खान, शहर यातायात के अधिकारियों के साथ पहल पर चर्चा करने के लिए 27 नवंबर, 2018 को मुंबई में थे पुलिस और बीएमसी। गवाही मेंयहां जारी, सैमिक खान, प्रिंसिपल, ब्लूमबर्ग एसोसिएट्स और कुर्सी, एनएसीटीओ-जीडीसीआई ने कहा कि सीएसएमटी के लिए प्रस्तावित रीडिज़ाइन मुंबई के लिए एक चंद्रमा हो सकता है।

न्यू यॉर्क टाइम्स स्क्वायर की तर्ज पर बदलाव करने के लिए मुंबई के सीएसएमटी जंक्शन

पैदल चलने वालों के लिए एक सुरक्षित क्षेत्र बनाने और सड़क दुर्घटनाओं को कम करने के उद्देश्य से एक कदम के हिस्से के रूप में, दक्षिण मुंबई में छत्रपति शिवाजी ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड महाराज टर्मिनस जंक्शन स्पष्ट रूप से चित्रित यातायात लेन के साथ क्षेत्र में क्षेत्रों को पैदल और विश्राम कर देगा। यह परियोजना नेशनल एसोसिएशन ऑफ सिटी ट्रांसपोर्टेशन ऑफिसर्स-ग्लोबल डिज़ाइनिंग सिटीज इनिशिएटिव्स (एनएसीटीओ-जीडीसीआई), बृहन्मुंबई नगर निगम (बीएमसी) और मुंबई यातायात पुलिस की संयुक्त पहल का हिस्सा है। कदम एक पीए हैवैश्विक सड़क सुरक्षा (बीआईजीआरएस) के लिए ब्लूमबर्ग Philanthropies पहल की आरटी।

अधिकारियों के मुताबिक, परियोजना के लिए सीएसएमटी जंक्शन और डेटा संकलन को फिर से डिजाइन करने पर काम शुरू हो चुका है। 2007 से 2013 के दौरान न्यूयॉर्क शहर के परिवहन विभाग के कमिश्नर के रूप में कार्यरत जेनेट सादिक खान, शहर यातायात के अधिकारियों के साथ पहल पर चर्चा करने के लिए 27 नवंबर, 2018 को मुंबई में थे पुलिस और बीएमसी। गवाही मेंयहां जारी, सैमिक खान, प्रिंसिपल, ब्लूमबर्ग एसोसिएट्स और कुर्सी, एनएसीटीओ-जीडीसीआई ने कहा कि सीएसएमटी के लिए प्रस्तावित रीडिज़ाइन मुंबई के लिए एक चंद्रमा हो सकता है।

यह भी देखें: मुंबई डीसीपीआर 2034: क्या यह मुंबई की रीयल एस्टेट समस्याओं को हल कर सकता है?

--> --> --> --> --> (function (w, d) < for (var i = 0, j = d.getElementsByTagName("ins"), k = j[i]; i

Polls

  • Property Tax in Delhi
  • Value of Property
  • BBMP Property Tax
  • Property Tax in Mumbai
  • PCMC Property Tax
  • Staircase Vastu
  • Vastu for Main Door
  • Vastu Shastra for Temple in Home
  • Vastu for North Facing House
  • Kitchen Vastu
  • Bhu Naksha UP
  • Bhu Naksha Rajasthan
  • Bhu Naksha Jharkhand
  • Bhu Naksha Maharashtra
  • Bhu Naksha CG
  • Griha Pravesh Muhurat
  • IGRS UP
  • IGRS AP
  • Delhi Circle Rates
  • IGRS Telangana
  • Square Meter to Square Feet
  • Hectare to Acre
  • Square Feet to Cent
  • Bigha to Acre
  • Square Meter to Cent
  • Stamp Duty in Maharashtra
  • Stamp Duty in Gujarat
  • Stamp Duty in Rajasthan
  • Stamp Duty in Delhi
  • Stamp Duty in UP

These articles, the information therein and their other contents are for information purposes only. All views and/or recommendations are those of the concerned author personally and made purely for information purposes. Nothing contained in the articles should be construed as business, legal, tax, accounting, investment or other advice or as an advertisement or promotion of any project or developer or locality. Housing.com does not offer any such advice. No warranties, guarantees, promises and/or representations of any kind, express or implied, are given as to (a) the nature, standard, quality, reliability, accuracy or otherwise of the information and views provided in (and other contents of) the articles or (b) the suitability, applicability or otherwise of such information, views, or other contents for any person’s circumstances.

Housing.com shall not be liable in any manner (whether in law, contract, tort, by negligence, products liability or otherwise) for any losses, injury or damage (whether direct or indirect, special, incidental or consequential) suffered by such person as a result of anyone applying the information (or any other contents) in these articles or making any investment decision on the basis of such information (or any such contents), or otherwise. The users should exercise due caution and/or seek independent advice before they make any decision or take any action on the basis of such information or other contents.

प्रमुख ब्याज दरों को फिर से पूर्व-कोविड स्तरों पर ला सकता है RBI, महंगाई के खिलाफ जंग जारी रखने की संभावना

RBI MPC Meeting : आरबीआई की एमपीसी की बैठक में प्रमुख ब्याज दरों को फिर से पूर्व-कोविड स्तरों पर लाने पर फैसला लिया जा सकता है. साथ ही इस बात की उम्मीद जताई जा रही है कि केंद्रीय बैंक के महंगाई के खिलाफ जंग को जारी रखने की संभावना है.

Published: August 4, 2022 9:05 AM IST

Reserve Bank of India

RBI MPC Meeting : भारत के केंद्रीय बैंक से शुक्रवार को अपनी मुख्य नीतिगत दर में एक बार फिर से और आधा अंक की वृद्धि करने की उम्मीद की जा रही है, जिससे यह संकेत दिया जा सके कि वह रुपये में आ रही कमजोरी रोकने के दौरान मुद्रास्फीति के खिलाफ अपनी लड़ाई में पीछे नहीं हटने वाला है.

Also Read:

बुधवार तक ब्लूमबर्ग द्वारा सर्वेक्षण किए गए 27 अर्थशास्त्रियों में से 13 ने भारतीय रिजर्व बैंक की छह सदस्यीय मौद्रिक नीति समिति को पुनर्खरीद दर को 50 आधार अंकों से बढ़ाकर 5.40% करते हुए देखा. इसके पूर्व यह स्तर ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड कोविड पूर्व अगस्त 2019 में अंतिम बार देखा गया था. एक अर्थशाष्त्री ने 40 आधार-अंक तक बढ़ाए जाने की बात कही. अन्य नौ अर्थशाष्त्री 35 आधार अंकों के बढ़ोतरी किए जाने की उम्मीद करते हैं. बाकी एक अर्थशाष्तरी ने 25 आधार अंक की बढ़ोतरी किए जाने की बात कही. इससे 2020 की शुरुआत के पूर्व-महामारी के स्तर पर रेपो रेट वहां तक ले जाने के लिए काफी है.

मुद्रास्फीति पूर्वानुमान

मुद्रास्फीति वर्ष की शुरुआत से आरबीआई के 6% की लक्ष्य सीमा से ऊपर रही है, गिरती कमोडिटी की कीमतें केंद्रीय बैंक को यह सुझाव देने के लिए कुछ गुंजाइश प्रदान कर सकती हैं कि दबाव कम हो रहा है.

ब्लूमबर्ग के मुताबिक, क्वांटम एसेट मैनेजमेंट कंपनी के फिक्स्ड-इनकम फंड मैनेजर पंकज पाठक ने कहा, “हम उम्मीद करते हैं कि आरबीआई की टिप्पणी इस बात को स्वीकार कर लेगी कि मुद्रास्फीति के जोखिम कम हो रहे हैं.”

डीबीएस बैंक लिमिटेड की वरिष्ठ अर्थशास्त्री राधिका राव ने कहा कि भारत में मुद्रास्फीति अपने चरम पर हो सकती है. उन्होंने कहा, “स्थिर-से-कमजोर कमोडिटी की कीमतें, केंद्रीय बैंक के अलावा, मुद्रास्फीति की उम्मीदों पर भी लाभकारी प्रभाव पड़ने की संभावना है.”

फिर भी, राव को उम्मीद है कि चालू वित्त वर्ष के लिए आरबीआई की मुद्रास्फीति और विकास अनुमान क्रमशः 6.7% और 7.2% पर अपरिवर्तित रहेंगे. भारत के चावल उत्पादक क्षेत्रों में वर्षा की कमी अनाज के उत्पादन में कटौती कर सकती है और आरबीआई की मुद्रास्फीति की लड़ाई को जटिल बना सकती है.

बढ़ोतरी की दर

अगर केंद्रीय बैंक दर वृद्धि पर नरम रुख अपनाता है, चरम नीति दर, या जिसे आमतौर पर टर्मिनल दर के रूप में संदर्भित किया जाता है, चक्र में अपेक्षा से पहले पहुंचने के लिए देखते हैं.

एचडीएफसी बैंक लिमिटेड के अर्थशास्त्री अभीक बरुआ ने कहा, “आरबीआई से आगामी नीति में दरों में बढ़ोतरी की ‘फ्रंट-लोडिंग’ जारी रखने की उम्मीद है.”

बार्कलेज पीएलसी अब नीति दर को सितंबर तक 5.50% तक बढ़ने के लिए देखता है, जो कि 2023 के मध्य के पूर्व पूर्वानुमान से था. यह संकेत देगा कि दरें तटस्थ क्षेत्र में पहुंच गई हैं, इसके ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड भारत स्थित अर्थशास्त्री राहुल बाजोरिया ने कहा, एक ऐसे स्तर का जिक्र करते हुए जहां दरें आर्थिक विकास को प्रभावित किए बिना मुद्रास्फीति की जांच करने में मदद कर सकती हैं. उन्होंने टर्मिनल दर के लिए अपना प्रक्षेपण 5.75% रखा.

क्वांटम एसेट के पाठक ने कहा, “बॉन्ड बाजार के नजरिए से, इसमें से अधिकांश की कीमत पहले से ही है.” बेंचमार्क 10-वर्षीय बॉन्ड ने इस साल जुलाई में अपने पहले मासिक लाभ को सीमित कर दिया और नीति समीक्षा में रैली का विस्तार कर रहे हैं. यील्ड लगभग नीचे है जून में देखे गए 7.6% के तीन साल के उच्च स्तर से 40 आधार अंक.

रुपये की तरलता

रुपया हाल के महीनों में ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड कई निचले स्तर पर आ गया है, जुलाई में 80 डॉलर से नीचे गिरकर, विदेशी फंड प्रवाह लौटने के संकेतों के बीच इसने वापस खींच लिया है. मौद्रिक प्राधिकरण से डोविश संकेत मुद्रा व्यापारियों के साथ अच्छी तरह से नहीं बैठ सकते हैं.

आईसीआईसीआई सिक्योरिटीज प्राइमरी डीलरशिप लिमिटेड के मुख्य अर्थशास्त्री प्रसन्ना अनंतसुब्रमण्यम के मुख्य अर्थशास्त्री प्रसन्ना अनंतसुब्रमण्यम ने कहा, “आरबीआई को यूएस के साथ ब्याज दर के अंतर पर नजर रखनी चाहिए ताकि रुपये पर सट्टा दबाव के किसी भी निर्माण पर अंकुश लगाया जा सके.” एक नोट में लिखा है, “अगर आरबीआई और एमपीसी ने नरम रुख अपनाया, तो रुपये में तेज गिरावट का जोखिम और बढ़ जाता है.”

बाजार आरबीआई से यह आश्वासन भी मांगेंगे कि पर्याप्त तरलता है और केंद्रीय बैंक किसी भी तंगी को दूर करने के उपायों को लागू करने के लिए तैयार है.

ब्रेकिंग न्यूज और लाइव न्यूज अपडेट के लिए हमें फेसबुक पर लाइक करें या ट्विटर पर फॉलो करें. India.Com पर विस्तार से पढ़ें व्यापार की और अन्य ताजा-तरीन खबरें

Bitcoin में एक बार फिर जागी निवेशकों की रुचि, 15 माह में पहली बार कीमतें 10000 डॉलर के पार

बिटकॉइन लगभग 5 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज कर लगभग 10500 डॉलर पर पहुंच गया है.

Bitcoin में एक बार फिर जागी निवेशकों की रुचि, 15 माह में पहली बार कीमतें 10000 डॉलर के पार

Image: Reuters

पिछले लगभग 15 महीनों में पहली बार बिटकॉइन (Bitcoin) की कीमतें 10000 डॉलर पर पहुंच गई हैं. ब्लूमबर्ग टर्मिनल पर उपलब्ध बिटस्टांप द्वारा कंपाइल की गई कीमतों के मुताबिक, बिटकॉइन लगभग 5 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज कर लगभग 10500 डॉलर पर पहुंच गया है. लंदन की ब्लॉकचेन व क्रिप्टोकरंसी इन्वेस्टमेंट फर्म KR1 Plc के चीफ एग्जीक्यूटिव व को-फाउंडर जॉर्ज मैकनोनाफ ने कहा कि बिटकॉइन ने असाधारण बढ़ोत्तरी दर्ज की ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड है.

दिसंबर 2017 में था ऑल टाइम हाई पर

बिटकॉइन ने दिसंबर 2017 में अपने ऑल टाइम रिकॉर्ड स्तर को छुआ था, जब इसकी ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड कीमत 19511 डॉलर हो गई थी. उस साल बिटकॉइन ने 1400 फीसदी की बढ़ोत्तरी दर्ज की थी. उसके बाद 2018 में इसकी कीमतें 74 फीसदी गिरी थीं.

दिसंबर में 3100 डॉलर पर आ गया था भाव

दिसंबर में बिटकॉइन 3100 डॉलर के निकटावधि निचले स्तर पर आ ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड गया था. उसके बाद अप्रैल की शुरुआत में मिली बिड से पहले कई महीनों तक यह 3300 से 4100 डॉलर के बीच में झूलता रहा.

Alert! IT शेयरों में भगदड़ जारी, 2022 में इंडेक्‍स 23% टूटा, एक्‍सपर्ट ने Wipro पर जताया भरोसा, TCS सहित इनमें ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड गिरावट का डर

Stocks in News: Airtel, Marico, Uniparts India समेत इन शेयरोंमें रहेगा एक्‍शन, इंट्राडे में करा सकते हैं कमाई

Uniparts India: कई गुना सब्‍सक्रिप्‍शन के बाद भी शेयर ने किया निराश, लिस्टिंग पर निवेशकों को घाटा, अब क्‍या करें?

एक बार फिर क्रिप्टोकरंसी में जागा इन्वेस्टर्स का इंट्रेस्ट

अब एक ​बार फिर से क्रिप्टोकरंसीज और ब्लॉकचेन टेक्नोलॉजी में इन्वेस्टर्स की रुचि जागी है. खासकर फेसबुक की लिब्रा की वजह से. फेसबुक, वीजा इंक से लेकर उबर टेक्नोलॉजी इंक आदि कई कंपनियों के साथ मिलकर अपनी क्रिप्टोकरंसी लिब्रा पर काम कर रही है ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड और इसे अगले साल लॉन्च करने वाली है.

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

गौतम अडानी फिर बने दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्‍यक्ति, ब्लूमबर्ग और फोर्ब्स दोनों की रैंकिंग में दबदबा

अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी एक बार फिर दुनिया के टॉप अरबपतियों की लिस्‍ट में दूसरे नंबर पर पहुंच चुके हैं। उन्‍होंने दूसरे नंबर की स्थिति फोब्स और ब्‍लूमवर्ग दोनों की रैंकिंग में और मजबूत कर ली है।

गौतम अडानी फिर बने दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्‍यक्ति, ब्लूमबर्ग और फोर्ब्स दोनों की रैंकिंग में दबदबा

गौतम अडानी एक बार फिर बनें दुनिया के दूसरे सबसे अमीर व्‍यक्ति (फोटो-Indian Express)

अडानी ग्रुप के चेयरमैन गौतम अडानी एक बार फिर दुनिया के टॉप अरबपतियों की लिस्‍ट में दूसरे नंबर पर पहुंच चुके हैं। उन्‍होंने दूसरे नंबर की स्थिति फोब्स और ब्‍लूमवर्ग दोनों की रैंकिंग में और मजबूत कर ली है। ब्‍लूमवर्ग की रैंकिंग में गौतम अडानी जेफ बेजोस को पछाडकर दूसरे नंबर पर काबिज हुए हैं तो वहीं फोब्‍स रीयल टाइम की रैंकिंग में अडानी ने बर्नार्ड अर्नाल्ट को पछाड़ा है।

ब्‍लूमवर्ग बिलिनेर इंडेक्‍स पर गौर करें तो अडानी की संपत्ति में मंगलवार को 1.75 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी हुई थी। उनकी कुल संपत्ति 150 बिलियन डॉलर हो चुकी है। वहीं फोर्ब्स रियल टाइम बिलेनियर लिस्ट की बात करें तो मंगलवार को गौतम अडानी की संपत्ति में 2 बिलियन डॉलर की बढ़ोतरी हुई है। अब अडानी और उनकी फैमिली की कुल संपत्ति 158.3 बिलियन डॉलर हो चुकी है।

गौतम अडानी ने स्थिति की मजबूत

अरबपति गौतम अडानी न सिर्फ दोनों लिस्‍ट में दूसरे नंबर पर पहुंचे हैं, बल्कि तीसरे पायदन से अंतर अधिक हुआ है। फोब्‍स की रीयल टाइम लिस्‍ट के मुताबिक बर्नार्ड अर्नाल्ट की संपत्ति‍ में 1.7 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है और इनकी कुल संंपत्ति 153.7 बिलियन डॉलर है, जो तीसरे नंबर के सबसे अमीर व्‍यक्ति हैं।

Gujarat, Himachal Pradesh Vidhan Sabha Chunav Result 2022 Live Updates: मैनपुरी से जीतीं डिंपल, गुजरात में BJP तो हिमाचल में कांग्रेस की सरकार, केजरीवाल बोले- AAP बनी राष्ट्रीय पार्टी

Cauliflower Side Effect: इन 5 बीमारियों में गोभी का सेवन बॉडी पर ज़हर की तरह असर करता है, जानिए इसके साइड इफेक्ट

वहीं ब्लूमवर्ग की रिपोर्ट की बात करें तो गौतम अडानी ने अमेजन (Amazon) के सीईओ जेफ बेजोस को पीछे छोड़कर दूसरे सबसें अमीर व्‍यक्ति बने हैं। मंगलवार को जेफ बेजोस (Jeff Bezos) को 2.51 बिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है और इनकी कुल संपत्ति 145 बिलियन डॉलर हो चुकी है। गौतम अडानी से इनका फासला 5 बिलियन डॉलर का है।

मुकेश अंबानी को भी हुआ फायदा

केवल गौतम अडानी की संपत्ति में ही इजाफा नहीं हुआ है, बल्कि मुकेश अंबानी की संपत्ति में बढ़ोतरी हुई है। मंगलवार ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड को ब्‍लूमवर्ग की रैंकिंग में 88.8 बिलियन डॉलर के साथ 9वे स्‍थान पर काबिज हैं। मंगलवार को इनकी कुल आय में 28.ब्लूमबर्ग टर्मिनल के लिए शुरुआती गाइड 5 मिलियन डॉलर की बढ़ोतरी हुई है।

वहीं फोब्‍स की रैंकिंग की बात करें तो यहां मुकेश अंबानी की कुल संपत्ति 91.4 बिलियन डॉलर हुई है और मंगलवार को इनको 11 मिलियन डॉलर का नुकसान हुआ है। इस रैंकिंग में मुकेश अंबानी 8वें नंबर पर काबिज हैं।

रेटिंग: 4.36
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 565