यह भी पढ़े – BSE और NSE में क्या अंतर है?

National Stock Exchange of India Limited, NSE-नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड, एनएसई

क्या है नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई)?
National Stock Exchange of India Limited: नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) भारत का सबसे बड़ा फाइनेंशियल मार्केट है। 1992 में निगमित, एनएसई एक रिफाइंड, इलेक्ट्रॉनिक मार्केट के रूप में विकसित हुआ है जिसे इक्विटी ट्रेडिंग वाॅल्यूम के लिहाज से दुनिया में चौथा स्टॉक एक्सचेंज क्या है? सबसे बड़ा मार्केट आंका गया है। होलसेल डेट मार्केट और उसके तुरंत बाद कैश मार्केट सेगमेंट के लॉन्च के बाद 1994 में ट्रेडिंग आरंभ हो गई।

मुख्य बातें
- नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड (एनएसई) भारत का सबसे बड़ा और ट्रेडिंग वॉल्यूम के लिहाज से दुनिया में चौथा सबसे बड़ा मार्केट आंका गया है।

- नेशनल स्टॉक एक्सचेंज ऑफ इंडिया लिमिटेड आधुनिक, पूरी तरह ऑटोमेटेड इलेक्ट्रॉनिक ट्रेडिंग उपलब्ध स्टॉक एक्सचेंज क्या है? कराने वाला भारत का पहला एक्सचेंज है।

भारत में कुल कितने स्टॉक एक्सचेंज है? जाने इसके बारे में?

भारत में कुल कितने स्टॉक एक्सचेंज है (Bharat Mein Kul Kitne Stock Exchange Hai), स्टॉक मार्केट का मतलब होता है शेयर बाजार अगर विस्तार से कहा जाए तो शेयर का अर्थ है हिस्सा और बाजार का अर्थ है ऐसी जगह जहां आप खरीद बिक्री कर सकते हैं। शेयर बाजार स्टॉक मार्केट ऐसी जगह है जहां पर निवेशक कंपनियां अपने शेयर को बेचती और खरीदती है। मुंबई स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज भारत के दो मुख्य शेयर बाजार हैं।

भारत में कुल कितने स्टॉक एक्सचेंज है

भारत में कितने शेयर बाजार है

जब कोई व्यक्ति किसी कंपनी से शेयर खरीदते हैं तो वह व्यक्ति को शेयर खरीदने के लिए कोई विशेष जगह से खरीदता है उस जगह को स्टॉक एक्सचेंज कहते हैं। कारोबार करने वाली कंपनियां सार्वजनिक रूप से बाजार से शेयर खरीदते और भेजते हैं।

भारत में स्टॉक एक्सचेंज कि काफी लंबी सूची है लेकिन इनमें से दो प्रमुख स्टॉक एक्सचेंज हैं जो सबसे ज्यादा प्रसिद्ध हैं वह है मुंबई स्टॉक एक्सचेंज और नेशनल स्टॉक एक्सचेंज

मुंबई स्टॉक एक्सचेंज की स्थापना 9 जुलाई 1875 में श्री प्रेम चंद्र राय द्वारा की गई थी। इन्हें बुलियन किंग बिग बुल और कॉटन किंग के नाम से भी जाना जाता था।

INDIA स्टॉक एक्सचेंज लिस्ट (A to Z Stock List)

देश में अब तक कुल 23 सेबी स्वीकृत स्टॉक एक्सचेंज है। भारतीय स्वीकृत स्टॉक एक्सचेंज के नाम इस प्रकार हैं:-

S.No.स्टॉक एक्सचेंज
1.मुंबई स्टॉक एक्सचेंज मुंबई
2.over-the-counter एक्सचेंज मुंबई
3.स्टॉक एक्सचेंज क्या है? नेशनल स्टॉक एक्सचेंज मुंबई
4.उत्तर प्रदेश स्टॉक एक्सचेंज कानपुर
5.मेरठ स्टॉक एक्सचेंज मेरठ
6.वडोदरा स्टॉक एक्सचेंज वडोदरा
7.अहमदाबाद स्टॉक एक्सचेंज अहमदाबाद
8.बेंगलुरु स्टॉक एक्सचेंज बेंगलुरु
9.भुवनेश्वर स्टॉक एक्सचेंज भुवनेश्वर
10.कोचीन स्टॉक एक्सचेंज कोची
11.कोलकाता स्टॉक एक्सचेंज कोलकाता
12.गुवाहाटी स्टॉक एक्सचेंज गुवाहाटी
13.दिल्ली स्टॉक एक्सचेंज स्टॉक एक्सचेंज क्या है? दिल्ली
14.कोयंबतूर स्टॉक एक्सचेंज कोयंबटूर
15.हैदराबाद स्टॉक एक्सचेंज हैदराबाद
16.जयपुर स्टॉक एक्सचेंज जयपुर
17.लुधियाना स्टॉक एक्सचेंज लुधियाना
18.कैमरा स्टॉक एक्सचेंज बैंगलोर
19.चेन्नई स्टॉक एक्सचेंज चेन्नई
20.पुणे स्टॉक एक्सचेंज पुणे
21.मगध स्टॉक एक्सचेंज पटना
22.मध्य प्रदेश स्टॉक एक्सचेंज इंदौर
23.कैपिटल स्टॉक एक्सचेंज केरल लिमिटेड तिरुवंतपुरम केरल

Stock Market vs Stock Exchange: स्टॉक मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज में क्या अंतर है? समझिए

Stock Market vs Stock Exchange: स्टॉक मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज में क्या अंतर है? समझिए

Stock Market vs Stock Exchange: एक नया निवेशक हमेशा स्टॉक मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज के बीच अंतर नहीं जान सकता है। तो आइए जानें कि शेयर मार्केट और स्टॉक एक्सचेंज में क्या अंतर है? (Difference Between a Stock Market and a Stock Exchange)

Stock Market vs Stock Exchange: आम तौर पर, लोग कुछ अधिक आय का आनंद लेने के लिए फाइनेंसियल मार्केट में प्रवेश करते हैं। इस प्रकार, उन्हें करेंसी मार्केट की शर्तों का ज्ञान नहीं है। एक नौसिखिया के लिए 'शेयर', 'स्टॉक' और 'इक्विटी' जैसे शब्दों को समझना मुश्किल है। लेकिन स्पष्ट समझ नहीं होने से समस्या हो सकती है।

इकोनॉमिक्स शब्दावली: स्टॉक एक्सचेंज, शहरीकरण, स्टॉक बाजार और शिशु मुत्यु दर क्या है?

स्टॉक एक्सचेंज (Stock Exchange): ऐसा शेयर बाजार जहाँ सरकारों और सार्वजनिक कंपनियों की प्रतिभूतियों का क्रय-विक्रय होता है। यहाँ दलालों को कंपनियों के अंशपत्रों तथा अन्य प्रतिभूतियों के व्यापार की सुविधाएँ उपलब्ध रहती है।

शहरीकरण (Urbanisation): किसी महानगरीय क्षेत्र का प्रसार, शहरी क्षेत्रों की जनसंख्या या उनके क्षेत्रापफल का विस्तार या उनके अनुपात में समयानुसार वृद्धि। इसके प्रतिनिधि-स्वरूप शहरों में बसी जनसंख्या का अनुपात या इस अनुपात की वृद्धि दर का प्रयोग हो सकता है। इन दोनों को ही जनगणना प्रतिशत में व्यक्त किया जा सकता है। परिवर्तन अवधि वार्षिक, दशकीय या फिर कोई अतंवर्ती अवधि हो सकती है।

Stock Exchange क्या है Stock Exchange की काम करता है

Stock Exchange Kya Hai In Hindi: क्या आप जानते है स्टॉक एक्सचेंज क्या होता है और इनके यूज कहां – कहां है. इस पोस्ट में यह भी बताने वाला हूं की Stock Exchange का कितने कार्य है. इन्ही सवालों का जबाब Website Hindi के पोस्ट में मिलेगा.

स्टॉक एक्सचेंज में शेयर को निवेश करने के लिए बहुत सारे यूजर आते है जिसमें अनेकों कंपनियां शामिल होती है. Stock Exchange ऐसा बाजार होता है जहां पर हर समय विक्रेता और खरीदार मौजूद होते है. इस तरह से पूरी जानकरी जानने स्टॉक एक्सचेंज क्या है? स्टॉक एक्सचेंज क्या है? के लिए इस आर्टिकल को पढ़िए.

stock exchange

स्टॉक एक्सचेंज क्या है (Stock Exchange In Hindi)

स्टॉक एक्सचेंज ऐसा जगह होता है जहां पर खरीदार और विक्रेता मौजूद होते है ताकि शेयर और ब्रांड को लेन-देन स्टॉक एक्सचेंज क्या है? किया जा सके. वहीं नाम से ही पता चलता है की स्टॉक का मतलब शेयर और Exchange का मतलब खरीद-विक्री होता है.

अब आपके मन में यह सवाल होगा की यह किस नियम के अनुसार चलता है तो आपको बता दू यह Sebi के अंतर्गत नियमों पर कार्य करता है.

यहां से शेयर खरीदने के लिए किसी भी ब्रोकर से संपर्क करना होता है. ताकि उनका ट्रेडिंग अकाउंट और Demat Account ओपन हो सके. इसके बाद Stock Exchange में कार्य किया जा सकता है.

इसे भी पढ़िए

स्टॉक एक्सचेंज का इतिहास (History Of Stock Exchange In Hindi)

स्टॉक एक्सचेंज को सबसे पहले नीदरलैंड में Dutch East India Company द्वारा 1602 में स्थापित किया गया था. इसलिए इसे दुनियां का बहुत ही पुराना स्टॉक एक्सचेंज कहा गया. उस समय इसमे कार्य करने की प्रक्रिया ऑफलाइन हुआ करता था.

कहने का मतलब यह है की उस समय सभी प्रक्रिया कागजो पर होता था. पहले के समसे में शेयर खरीदने व बेचने वाले को प्रूफ के रूप में कागजो पर लिखकर दिया जाता था.

इसके बाद इंटरनेट आने के बाद सभी कार्य ऑनलाइन कर दिया गया. यानि की आप ऑनलाइन ही खरीदार से डील कर सकते है.

इसके पहले किसी भी प्रॉब्लम को ठीक करने व पेपर से कार्य करने में कई हप्ते समय लग जाते थे. लेकिन अब ऐसा नहीं है. पहले के अपेक्षा इंटरनेट के दिनों में सभी कार्य जल्दी हो जाते है.

स्टॉक्स एक्सचेंज कैसे काम करता है

स्टॉक एक्सचेंज और कस्टमर के बिच शेयर को भेजने के लिए यह एक माध्यम है. जब कंपनी के पास पैसे की जरुरत होती है तब कुछ प्रतिशत को सार्वजनिक कर दिया जाता है, जिसके पहले स्टॉक एक्सचेंज को लिस्ट करवाना होता है.

रेटिंग: 4.19
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 234