अगर आप डीमैट अकाउंट होल्डर हैं और इसके ज़रिए स्टॉक मार्केट में शेयरों की खरीद-बिक्री करते हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है.

डीमैट अकाउंट क्या है – What is demat account

आपने यदि शेयर मार्केट के बारे में कहीं पर सुना है या आप शेयर मार्केट के बारे में जानते हो तो आपने डीमैट और ट्रेडिंग अकाउंट के बारे में जरूर सुना होगा और कई सारे लोगों के मुंह से यह कहते हुए भी सुना होगा कि शेयर मार्केट में share को खरीदने और बेचने के लिए एक डीमैट अकाउंट की आवश्यकता होती है तो चलिए जानते हैं कि डीमैट अकाउंट क्या है डीमैट अकाउंट को कैसे खोला जाता है इसको खोलते समय आपको कितनी फीस देने की आवश्यकता पड़ती है इसके लिए कौन से डॉक्यूमेंट आवश्यक है तो चलिए डीमेट अकाउंट क्या है के साथ इसके अन्य विषयों के ऊपर भी मैं आपको विस्तार से बताता हूं

डीमैट अकाउंट क्या है – what is demat account

जब बात शेयर मार्केट में निवेश करने की आती है तो इसके लिए सबसे पहले डीमैट खाते की आवश्यकता होती है जिस तरह से बच्चों को स्कूल भेजने से पहले उनका उस स्कूल में एडमिशन कराना होता है तभी जाकर वह स्कूल में जा सकते हैं वैसे ही शेयर मार्केट में भी निवेश करते समय आपको पहले एक डीमैट खाता खोलना होता है।

शेयर मार्केट में किसी कंपनी के खरीदे गए शेयर को डीमैट खाते के अंदर रखा जाता है डिमट खाते के अंदर आप अपनी मनपसंद किसी भी कंपनी के नाम को सर्च करके उसके अंदर निवेश कर सकते हो

लेकिन जब आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते हो तो वह शेर आपके डीमैट खाते में आ जाता है लेकिन उसको पूर्ण रूप से आने में 3 दिन का समय लगता है लेकिन यदि आप चाहो तो उस किसी भी समय बेच भी सकते हे डीमैट अकाउंट क्या है – किसी भी कंपनी के खरीदे गए शेयर को इस अकाउंट में रखा जाता है उसे डीमेट अकाउंट कहते हैं

डीमेट अकाउंट कहां पर खोलें – Where to open demat account

दोस्तों डिमैट अकाउंट खोलने के लिए आपको बाजार में कई सारे ब्रोकर मिल जाएंगे जिनके माध्यम से आप भी मेट खाता खोल सकते हो लेकिन मैं आपको भारत के कुछ प्रमुख ब्रोकर के बारे में बताता हूं जिनके माध्यम से आप एक डीमैट खाते के साथ अच्छी सर्विस भी प्रदान कर सकते हैं

जरोदा – Zerodha

यह देश का एकमात्र ऐसा ब्रोकर है जिसके पास 7 मिलियन से भी ज्यादा डीमैट खाते खुले गए हैं यह ब्रोकर पिछले 10 सालों से अपनी सर्विस दे रहा है कई सारे बड़े बड़े निवेशकों का भी जरोदा के अंदर डीमैट खाता है इसके पीछे की सबसे बड़ी वजह इसका इंटरफेस है जो कि बहुत ही सिंपल और सरल है यहां पर कोई भी व्यक्ति आसानी से किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद और बेच सकता है

एंजेल ब्रोकिंग – Angel One

इस ब्रोकर का भी देश के सबसे बड़े ब्रोकर के अंदर इसका नाम आता है एंजेल ब्रोकिंग ने अपना नाम बदलकर एंजेल वन रख लिया है यहां पर जब आप डीमैट खाता खोलते हो तो आपको शेयर मार्केट सीखने के लिए फ्री में लर्निंग वीडियो प्रोवाइड कराई जाती है यहां से भी आप किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद और बेच सकते हैं

अपस्टॉक – Upstock

इस ब्रोकर के पास भी देश में कई सारे लोगों के डीमैट खाता खोले गए हैं अप स्टॉक के ऊपर ज्यादातर लोग काफी ज्यादा विश्वास करते हैं इसके पीछे की असली वजह यह है कि अप स्टॉक के चेयरमैन रतन टाटा है अप स्टॉक पर भी आप किसी भी कंपनी के शेयर को खरीद और बेच सकते हैं

देश में लोगों के द्वारा सबसे ज्यादा पसंद किए जाने वाले ऊपर दिए गए तीन ब्रोकर ही है लेकिन इनके अलावा भी देश में कई सारे ब्रोकर आपको देखने को मिलते हैं जैसे कि Fyres, Alice Blue, sharekhan और इनके अलावा जितनी भी बैंक के होती है उन सभी कि आपको ब्रोकिंग सेवा भी मिल जाती है तो यदि आप चाहो तो बैंकों में जाकर भी अपना एक डीमैट खाता खुलवा सकते हो

डीमैट अकाउंट का इतिहास – History of Demat Account

शेयर मार्केट में 2010 से पहले डीमैट खाता खोलने के लिए काफी ज्यादा टाइम और फॉर्म का इस्तेमाल होता था लेकिन 2010 के बाद जरोदा आया और यहां पर यह सारा कार्य ऑनलाइन ही होने लग गया इससे पहले जब कोई व्यक्ति किसी कंपनी के शेयर खरीदता था तो जब वह शेयर खरीदता तो कंपनी उसको उसके खरीदे गए शेयरों का वेरीफिकेशन एक कागज पर करके भेजती थी और जब इन्हीं शेयर को वापस बेचना होता था तो उस व्यक्ति को पहले एक फॉर्म भर के उस कंपनी के पास भेजना होता था तब जाकर वे शेयर बिकते थे जो कि एक बहुत ही टाइम कंज्यूम करने वाली प्रोसेस है इसके अंदर लोगों शेर खरीदने और बेचने मैं महीनों का समय लग जाता था डीमैट अकाउंट को डीमेट एलाइंस कहां जाता है

महत्वपूर्ण दस्तावेज – important documents

डीमेट अकाउंट खोलने के लिए आपके पास कुछ इंपॉर्टेंट डॉक्यूमेंट का होना बहुत ही आवश्यक है इनमें से सबसे महत्वपूर्ण पैन कार्ड और आपका बैंक खाता होता है इसके साथ ही आपको आधार कार्ड और अपनी फोटो का भी इस्तेमाल करना पड़ता है

डीमेट अकाउंट के फायदे – Benefits of Demat Account

ऑनलाइन डिमैट अकाउंट के वैसे तो कई सारे फायदे हैं लेकिन चलिए मैं आपको कुछ महत्वपूर्ण फायदों के बारे में बताता हूं

कम टाइम – जब आप किसी ब्रोकर के माध्यम से ऑनलाइन डीमैट खाता खोलते है तो इसमें आपका बहुत सारा समय बचता है

जब आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते और बेचते हैं तो आपको किसी ब्रोकर के पास जाकर कोई फॉर्म भरने की आवश्यकता नहीं होती है बल्कि आप अपने मोबाइल फोन से ही अपने शेयर को खरीद और बेच सकते है

आजकल मार्केट में कई सारी ब्रोकिंग कंपनियां कंपटीशन में उतरी हुई है और इस कंपटीशन के चक्कर में वह लोगों के फ्री में डीमेट अकाउंट खोल रहे हैं तो आप चाहो तो फ्री में डीमेट अकाउंट खुलवा सकते हे पहले के समय एक डीमैट अकाउंट खुलवाने के लिए काफी ज्यादा पैसा खर्च करना पड़ता था

जब आप किसी कंपनी के शेयर को खरीदते और बेचते है तो इसके बीच में सिर्फ आपका ब्रोकर और आप शामिल होते हो इसमें तीसरे पक्ष का कोई भी काम नहीं होता है इसलिए इसमें किसी भी प्रकार की धोखाधड़ी नहीं होती है आज का सिस्टम पहले से कई गुना बेहतर है

निष्कर्ष: डीमैट अकाउंट क्या है

आज के इस लेख में हमने जाना की डीमैट अकाउंट क्या है। और यह कैसे काम करता है और डिमैट अकाउंट ऑनलाइन खुलने से ग्राहकों को क्या फायदे होने लगे क्योंकि यह सारा काम शेर खरीदना और बेचना आजकल कर बैठे ही नहीं हो जाता है लेकिन पहले ऐसा संभव नहीं था लेकिन अब संभव है इसलिए हर कोई घर बैठे बैठे स्टॉक मार्केट में निवेश कर सकता है

Demat account में 1 अक्टूबर से नहीं कर पाएंगे लॉग-इन, अगर नहीं किया ये जरूरी काम

नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) द्वारा 14 जून को जारी सर्कुलर के अनुसार, डीमैट अकाउंट होल्डर्स के लिए 30 सितंबर, 2022 तक टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन इनेबल करना जरूरी है.

Demat account में 1 अक्टूबर से नहीं कर पाएंगे लॉग-इन, अगर नहीं किया ये जरूरी काम

अगर आप डीमैट अकाउंट होल्डर हैं और इसके ज़रिए स्टॉक मार्केट में शेयरों की खरीद-बिक्री करते हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है.

Demat account: अगर आप डीमैट अकाउंट होल्डर हैं और इसके ज़रिए स्टॉक मार्केट में शेयरों की खरीद-बिक्री करते हैं तो आपके लिए जरूरी खबर है. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) द्वारा 14 जून को जारी सर्कुलर के अनुसार, डीमैट अकाउंट होल्डर्स के लिए 30 सितंबर, 2022 तक टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन इनेबल करना जरूरी है. ऐसा नहीं करने पर आप अपने अकाउंट में लॉग-इन नहीं कर पाएंगे. ऑनलाइन स्टॉकब्रोकर Zerodha ने अपनी वेबसाइट पर कहा है, “नए एक्सचेंज नियमों के अनुसार, 30 सितंबर 2022 से पहले अपने अकाउंट में TOTP 2Factor लॉगिन इनेबल करना अनिवार्य है. ऐसा न करने पर आप Kite (इसके इन-हाउस ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म) में लॉग इन नहीं कर पाएंगे.

NSE ने अपने सर्कुलर में क्या कहा

इस सर्कुलर में कहा गया है, “सदस्य अपने डीमैट अकाउंट में लॉग-इन करने के लिए ऑथेंटिकेशन फैक्टर्स में से एक के रूप में बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल कर सकते हैं.” दूसरा तरीका “नॉलेज फैक्टर” हो सकता है, जिसके तहत पासवर्ड या पिन के रूप में कुछ ऐसा होना चाहिए, जो केवल यूजर को पता हो. इसके अलावा, या एक “पोजेशन फैक्टर” भी हो सकता है. इसका एक्सेस केवल यूजर के पास होता है. जैसे- स्मार्टफोन या डेस्कटॉप पर वन-टाइम पासवर्ड (ओटीपी), सिक्योरिटी टोकन या ऑथेंटिकेटर ऐप्स. ग्राहकों को ईमेल और एसएमएस दोनों के माध्यम से ओटीपी होगा. ऐसे मामलों में जहां बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन संभव नहीं है, वहां सर्कुलर के मुताबिक सदस्यों को नॉलेज फैक्टर (पासवर्ड/पिन), पोजेशन फैक्टर (ओटीपी/सिक्योरिटी टोकन) और यूजर आईडी का इस्तेमाल करना होगा.

Mcap of Top 10 Firms: टॉप 10 में से 8 कंपनियों का मार्केट कैप 1.15 लाख करोड़ बढ़ा, RIL को सबसे ज्यादा मुनाफा

Market Outlook This Week: RBI के ब्याज दरों पर निर्णय, विधानसभा चुनावों के नतीजों से तय होगी बाजार की दिशा, एक्सपर्ट्स की राय

Zerodha का बयान

ऑनलाइन स्टॉकब्रोकर Zerodha ने अपनी वेबसाइट पर कहा, “नए एक्सचेंज नियमों के अनुसार, 30 सितंबर 2022 से पहले अपने अकाउंट में TOTP 2Factor लॉगिन इनेबल करना अनिवार्य है. ऐसा न करने पर आप Kite (इसके इन-हाउस ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म) में लॉग इन नहीं कर पाएंगे. TOTP का मतलब टाइम-बेस्ड वन-टाइम पासवर्ड है. Zerodha ने कहा कि यह TOTP केवल एक छोटी अवधि के लिए वैलिड होगी – आमतौर पर 30 सेकंड. हर 30 सेकंड में इसे री-जनरेट किया जा सकेगा.

डीमैट अकाउंट में टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन कैसे करें इनेबल

सर्कुलर के अनुसार, बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल पासवर्ड/पिन या ओटीपी/सिक्योरिटी टोकन के साथ किया जाएगा. हालांकि, जहां बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन संभव नहीं है, वहां ओटीपी/सिक्योरिटी टोकन के साथ पासवर्ड/पिन का उपयोग करके डीमैट खातों में लॉगिन की अनुमति दी जाएगी. Upstox के यूजर्स को ओटीपी और पिन डालना होगा. मोबाइल लॉगिन के मामले में ओटीपी या पिन के साथ बायोमेट्रिक्स का उपयोग किया जाएगा. Zerodha के अनुसार, TOTP प्राप्त करने के लिए एक व्यक्ति को अपने पीसी या मोबाइल फोन पर नीचे दिए गए ऐप्स में से एक ऐप डाउनलोड करना होगा:

  • गूगल ऑथेंटिकेटर
  • माइक्रोसॉफ्ट ऑथेंटिकेटर
  • Authy
  • Last Pass Authenticator
  • Bitwarden

Get Business News in Hindi, latest India News in Hindi, and other breaking news on share market, investment scheme and much more on Financial Express Hindi. Like us on Facebook, Follow us on Twitter for latest financial news and share market updates.

1 अक्टूबर से पहले कर लें Demat Account से जुड़े ये काम वरना बंद हो सकता है अकाउंट

ऐसा नहीं होने पर ग्राहक ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे

दरअसल, नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) द्वारा 14 जून को एक सर्कुलर जारी किया था. इसके अनुसार, डीमैट अकाउंटहोल्डरों के लिए 30 . अधिक पढ़ें

  • News18Hindi
  • Last Updated : September 09, 2022, 17:36 IST

हाइलाइट्स

अकाउंटहोल्डरों के लिए 30 सितंबर, 2022 तक टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को इनेबल करना बहुत ही जरूरी हैं.
अगर आप टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को इनेबल नहीं करेंगे तो आप 1 अक्टूबर 2022 से अकाउंट को लॉग-इन नहीं कर पाएंगे.
ऐसा नहीं होने पर ग्राहक ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे.

नई दिल्ली. अगर आप डीमैट अकाउंट (Demat Account) होल्डर हैं और इसके माधयम से स्टॉक मार्केट में शेयरों की खरीद या बिक्री करते हैं तो ये ख़बर आपके लिए बहुत महत्वपूर्ण है. नेशनल स्टॉक एक्सचेंज (NSE) ने 14 जून को एक सर्कुलर जारी किया था. इसके अनुसार, डीमैट अकाउंटहोल्डरों के लिए 30 सितंबर, 2022 तक टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को इनेबल करना बहुत ही जरूरी हैं. अगर आप टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन को इनेबल नहीं करेंगे तो आप 1 अक्टूबर 2022 से अपने डीमैट अकाउंट को लॉग-इन नहीं कर पाएंगे.

एनएसई ने इस सर्कुलर में कहा कि खाताधारक को अपनी डीमैट अकाउंट में लॉन-इन करने के लिए एक ऑथेंटिकेशन फैक्टर के रूप में बायोमीट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करना होगा. इसके साथ ही दूसरा तरीका नॉलेज फैक्टर हो सकता है. यह पासवर्ड, पिन या कोई पॉजेशन फैक्टर हो सकता है, जिसकी जानकारी सिर्फ यूजर को होती है.

ईमेल और एसएमएस दोनों पर प्राप्त होगा OTP
आपको बता दिया कि क्लाइंट्स को स्मार्टफोन या डेस्कटॉप पर वन-टाइम पासवर्ड यानी ओटीपी ईमेल और एसएमएस दोनों के माध्यम से प्राप्त होगा. ऐसे मामले, जिसमें बायोमीट्रिक ऑथेंटिकेशन मुमकिन नहीं है, मेबर्स को नॉलेज फैक्टर का इस्तेमाल करना होगा. इसमें पासवर्ड/पिन, पॉजेशन फैक्टर (OTP / सिक्योरिटी टोकन) और यूजर आईडी हो सकता है.

इस मामले पर एक्सपर्ट्स का कहना है कि ज्यादातर स्टॉक ब्रोकर्स सेकेंड ऑथेंटिकेशन फैक्टर का इस्तेमाल कर रहे हैं. इसमें पासवर्ड शामिल नहीं है. हालांकि, पासवर्ड और पिन दोनों ही नॉलेज फैक्टर्स हैं. इन्हें ऑथेंटिकेशन के लिए दो अलग-अलग फैक्टर्स नहीं माना जा सकता.

30 सितंबर से टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन जरूरी
एनएसई और बीएसई ने इस बारे में सेबी के 3 दिसंबर, 2018 के सर्कुलर का हवाला दिया है. साइबर सिक्योरिटी से जुड़े इस सर्कुलर में ऑथन्टेकेशन फैक्टर्स के बारे में एक तरह का अंतर बताया गया है. अब एनएसई ने लॉग-इन के लिए 30 सितंबर से टू-फैक्टर ऑथन्टेकेशन को जरूरी बना दिया है.

जिरोधा ने भी अपनी वेबसाइट पर शेयर की जानकारी
इस बारे में स्टॉक ब्रोकर जिरोधा ने भी अपनी वेबसाइट पर जानकारी शेयर की. उसने कहा है कि एक्सचेंज के नए रेगुलेशंस के मुताबिक, 30 सितंबर, 2022 से पहले डीमैट अकाउंट में लॉग-इन के लिए टीओटीपी, टू फैक्टर अथॉन्टेकेशन जरूरी है. ऐसा नहीं होने पर ग्राहक ऑनलाइन ट्रेडिंग प्लेटफॉर्म का इस्तेमाल नहीं कर सकेंगे.

ऐसे इनेबल करें टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन
आपको बता दें कि अगर आप अपने डीमैट अकाउंट में टू-फैक्टर ऑथेंटिकेशन इनेबल करना चाहते डीमैट अकाउंट कैसे इस्तेमाल करते हैं हैं तो आपको पासवर्ड, पिन या ओटीपी सिक्योरिटी टोकन के साथ बायोमेट्रिक ऑथेंटिकेशन का इस्तेमाल करना होगा. इसके बाद ओटीपी सिक्योरिटी टोकन के साथ पासवर्ड पिन का उपयोग करके डीमैट खातों में लॉगिन की अनुमति देनी होगी. इसके बाद Upstox के यूजर्स को ओटीपी और पिन डालना होगा. वहीं मोबाइल में लॉगिन के मामले में ओटीपी या पिन के साथ बायोमेट्रिक्स का उपयोग करना होगा. इसके साथ ही TOTP प्राप्त करने के लिए आपको अपने मोबाइल और पीसी में गूगल ऑथेंटिकेटर ऐप या माइक्रोसॉफ्ट ऑथेंटिकेटर ऐप इनस्टॉल करना होगा.

ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें News18 हिंदी| आज की ताजा खबर, लाइव न्यूज अपडेट, पढ़ें सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट News18 हिंदी|

डीमैट अकाउंट यूज करते समय इन बातों का रखें ध्यान, वरना बढ़ जाएंगी मुश्किलें

Demat Account में होने वाले फ्रॅाड की घटनाएं लगातार बढ़ती जा रही हैं. इसलिए हमें फ्रॅाड से बचने के लिए सावधान रहना बहुत ही आवश्यक हो गया है.

डीमैट अकाउंट यूज करते समय इन बातों का रखें ध्यान, वरना बढ़ जाएंगी मुश्किलें

Demat Account Fraud : अगर आप डीमैट अकाउंट का इस्तेमाल करते हैं तो आपको सावधान रहने की जरूरत है, नहीं तो आपको कई समस्याओं का सामना करना पड़ सकता है. डीमैट अकाउंट (Demat Account) एक तरह का Digital Platform है. जो व्यापारियों को एक ऐसा प्लेटफॅार्म देता है जहां वे अच्छी सेफ्टी के साथ शेयर को रख सकते हैं. डीमैट एक फंक्शनल अकाउंट होता है. शेयर मार्केट में शेयर्स को खरीदने और बेचने के लिए डीमैट अकाउंट का होना बहुत जरुरी होता है. आजकल डीमैट अकाउंट को आप अपने फंड से ऑनलाइन भी जोड़ सकते हैं.

डिजिटलाइजेशन के होने आप शेयर मार्केट के सारे काम घर बैठे इंटरनेट की मदद से कर सकते हैं. इंटरनेट के इस रुप ने लोगों को सुविधाएं तो दी है. लेकिन सबकुछ डिजिटल होने से इंटरनेट के जरिए होने वाले फ्रॅाड में भी बढ़ोत्तरी होती जा रही है. ऐसे में ग्राहकों को सतर्क रहने का आवश्यकता है. आपके अकाउंट को लॅागिन करने के पासवर्ड से लेकर हर छोटी बात पर जालसाजों की नजर रहती है. किसी भी तरह की धोखाधड़ी से बचने के लिए ग्राहकों को इन बातों का ध्यान रखना चाहिए.

ऑनलाइन फ्रॅाड से कैसे बचें

अपने डीमैट अकाउंट की नियमित रुप से निगरानी करने की जिम्मेदारी मुख्य रूप से ग्राहकों के ऊपर ही है. सावधानी रखकर आप किसी भी तरह की चोरी या धोखाधड़ी के खतरे से बचा जा सकता है. सबसे पहले अपने मोबाइल नंबर और ईमेल अपडेट रखना बहुत जरुरी है. ऐसा करने से आपको मोबाइल और ई-मेल पर हर तरह की नोटिफिकेशन मिलती रहेगी. अपने डीमैट अकाउंट से किसी भी तरह के ट्रांजैक्शन के बाद मोबाइल में एसएमएस और ईमेल का स्टेटमेंट चेक करते रहें.

इसी तरह ऑनलाइन फ्रॅाड से बचने के लिए जब भी डीमैट अकाउंट का यूज न कर रहें, तब पावर ऑफ अटॅार्नी की लिमिट को सीमित कर दें. और अगर आप लंबे समय से अकाउंट का यूज नहीं कर रहें हैं तो डीमैट अकाउंट को फ्रीज कर देना चाहिए.

लॅागिन पासवर्ड अपने पास रखें सुरक्षित

बता दें कि अक्सर देखा जाता है कि कई लोग अपने अकाउंट के पासवर्ड को भूल जाते हैं. अपने डीमैट अकाउंट को लॅागिन करने के लिए यूज होने वाले पासवर्ड को सेफ रखना बहुत जरुरी है. अपने लॅागिन पासवर्ड को ऐसी जगह सुरक्षित रखें जहां से आप आसानी से इसे एक्सेस कर सकें. हमेशा अपने पासवर्ड को याद रखें. जिससे पासवर्ड के खोने की कंडीशन में आपको परेशानी का नहीं करना पड़ेगा.

ये भी पढ़ें

14 नवंबर 2022 की बड़ी खबरें: G20 समिट के लिए बाली पहुंचे PM मोदी, जबरन धर्मांतरण पर SC गंभीर

14 नवंबर 2022 की बड़ी खबरें: G20 समिट के लिए बाली पहुंचे PM मोदी, जबरन धर्मांतरण पर SC गंभीर

महंगाई के आंकड़ों, ग्लोबल मार्केट से तय होगी इस हफ्ते शेयर बाजार की स्थिति, निवेशक इन बातों का रखें ध्यान

महंगाई के आंकड़ों, ग्लोबल मार्केट से तय होगी इस हफ्ते शेयर बाजार की स्थिति, निवेशक इन बातों डीमैट अकाउंट कैसे इस्तेमाल करते हैं का रखें ध्यान

इस तरह सुरक्षित बनाएं अपनी बेटी के भविष्य, ये सरकारी स्कीम आएगी काम

इस तरह सुरक्षित बनाएं अपनी बेटी के भविष्य, ये सरकारी स्कीम आएगी काम

SIP में करते हैं निवेश तो इन बातों का रखें विशेष ध्यान, होगा ज्यादा फायदा

SIP में करते हैं निवेश तो इन बातों का रखें विशेष ध्यान, होगा ज्यादा फायदा

English News Headline : If you use demat account then be careful with these things

Demat Account: डीमैट खाता खुलवाने के बाद न हो कोई परेशानी, इसलिए पहले ही जान लें ये बातें

Demat Account: शेयर मार्केट (share market) में निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट खोलना जरूरी है. इसे खुलवाते वक्त कुछ बातों पर जरूर ध्यान देना चाहिए.

By: एबीपी न्यूज़ | Updated at : 08 Sep 2021 10:21 PM (IST)

Demat Account: डीमैट अकाउंट (Demat account) के बारे में आपने जरूर सुना होगा. लेकिन बहुत से लोग डीमैट अकाउंट के बारे में नहीं जानते. दरअसल शेयर मार्केट (share market) में निवेश करने के लिए डीमैट अकाउंट खोला जाता है. बिना डीमैट अकाउंट के शेयर मार्केट में ट्रेडिंग नहीं की जाती है. आज हम आपको बता रहे हैं कि डीमैट अकाउंट खोलते समय कौन-कौन सी बातों पर ध्यान देना होता है.

1-ब्रोकरेज और ट्रांजेक्शन फीस

  • ब्रोकरों के बीच डीमैट अकाउंट खोलने और ब्रोकरेज चार्ज अलग-अलग हैं.
  • आजकल ज्यादातर मुफ्त डीमैट खाते खोल रहे हैं.
  • इक्विटी खरीदने और बेचने पर आपसे लेनदेन (ट्रांजेक्शन) की फीस ली जा सकती है.

इन बातों की करें जांच

  • डीमैट अकाउंट की फीस, सालाना मेंटेनेंस चार्ज, ट्रांजेक्शन फीस.
  • ट्रांजेक्शन फीस को लेकर ब्रोकरों के बीच बड़ा अंतर हो सकता है.

2-अन्य सुविधाएं

  • आपको ब्रोकरेज हाउस क्या-क्या सुविधाएं देगा यह जरूर जान लें.
  • कुछ ब्रोकरेज हाउस इक्विटी ब्रोकिंग की सेवा के अतिरक्त भी कई प्रकार की अन्य सेवाएं देते हैं.
  • जैसे कई ब्रोकरेज फर्म आपको समय-समय पर रिसर्च उपलब्ध कराती रहती हैं. यह रिसर्च आपको सही जगह निवेश करने में मदद करती है.

3-डीमैट और ट्रेडिंग खाता

  • आपका ब्रोकर 2-इन-1 डीमैट और ट्रेडिंग खाता आपको देता हैं तो यह सबसे अच्छा है.
  • ट्रेडिंग खाते के बगैर डीमैट खाता अधूरा है.
  • ध्यान रखें कि डीमैट खाते में आप सिर्फ डिजिटल रूप डीमैट अकाउंट कैसे इस्तेमाल करते हैं में शेयरों को रख सकते हैं.
  • ट्रेडिंग खाते के साथ आप शेयर, आईपीओ, म्यूचुअल फंड और यहां तक गोल्ड में निवेश कर सकते हैं. इसके बाद आप इन्हें डीमैट खाते में रख सकते हैं.

4-पोर्टफोलियो की जानकारी भी जरूरी

  • कुछ ब्रोकरेज हाउस आपके पोर्टफोलियो की जानकारी आपको समय-समय पर देते हैं.
  • इससे निवेश से मिलने वाले रिटर्न की जानकारी रखने में मदद मिलती है.

5-कनेक्टिविटी

  • कारोबार के लिए फोन और इंटरनेट दोनों का ही इस्तेमाल किया जा सकता है.
  • ब्रोकरेज हाउस दोनों में से कौनसी सुविधा मुहैया करवाता है यह जानना जरूरी है.
  • ज्यादातर ब्रोकर्स दोनों ही सुविधाएं देते हैं.

यह भी पढ़ें:

Published at : 08 Sep 2021 10:21 PM (IST) Tags: ABP News Investment Stock Market share demat account broker हिंदी समाचार, ब्रेकिंग न्यूज़ हिंदी में सबसे पहले पढ़ें abp News पर। सबसे विश्वसनीय हिंदी न्यूज़ वेबसाइट एबीपी न्यूज़ पर पढ़ें बॉलीवुड, खेल जगत, कोरोना Vaccine से जुड़ी ख़बरें। For more related stories, follow: Business News in Hindi

रेटिंग: 4.85
अधिकतम अंक: 5
न्यूनतम अंक: 1
मतदाताओं की संख्या: 95